Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

Tokyo Paralympics : तीरअंदाजी में हरियाणा के इकलौते खिलाड़ी हैं हरविंद्र सिंह, गोल्ड पर लगाएंगे निशाना!

Paralympics Tokyo 2020 : हरविंद्र सिंह कैथल के गुहला हलके के गांव अजीत नगर के रहने वाले हैं। गोल्ड मेडल के लिए वे सोनीपत में कड़ा अभ्यास कर रहे हैं।

Tokyo Paralympics : तीरअंदाजी में हरियाणा के इकलौते खिलाड़ी हैं हरविंद्र सिंह, गोल्ड पर लगाएंगे निशाना!
X

तीर अंदाजी का अभ्यास करते हरविंद्र सिंह।

सूरज सहारण : कैथल

24 अगस्त से 5 सितंबर तक टोक्यो (जापान) में होने वाले पैरा ओलंपिक ( Paralympics Tokyo 2020 ) खेलों के लिए कैथल के गुहला हलके के गांव अजीत नगर (कसौर कालोनी) के हरविंद्र सिंह का चयन हुआ है। टोक्यो पैरा ओलंपिक में तीरअंदाजी ( Archery ) में खेलने वाले हरविंद्र सिंह ( Harvinder Singh) हरियाणा प्रदेश की तरफ से इकलौते खिलाड़ी हैं। हरिभूमि से बातचीत में हरविंद्र सिंह ने बताया कि पैरा ओलंपिक के लिए तीरअंदाजी में देश के कुल पांच खिलाड़ियों का चयन हुआ है उन्हीं में से वे भी एक हैं। उन्होंने बताया कि देश के लिए गोल्ड मेडल जीतना ही उनका मुख्य लक्ष्य है और इसके लिए वे सोनीपत कैंप में रहकर कड़ा अभ्यास कर रहे हैं। हरविंद्र ने बताया कि कोविड के दौरान उन्हें अपने घर अजीत नगर में रहकर ही अभ्यास किया था। हरविंद्र सिंह ने कहा कि उनका सपना देश के लिए स्वर्ण पदक लाना होगा।

स्नातक करते हुए चढा तीरअंदाजी का शोक

हरिवंद्र सिंह ने बताया कि जब वे पंजाबी विश्वविद्यालय पटियाला से स्नातक कर रहे थे तो उस समय लंदन ओलंपिक चल रहा था। उसने टीवी पर तीर अंदाजी देखी तथा उसका शोक हुआ। इसे लेकर उसने विश्वविद्यालय में आर्चरी के को जीवन जोत सिंह और गौरव शर्मा से बातचीत की तो उन्होंने उसका सहयोग किया। इसके बाद धीरे-धीरे वे तीर अंदाजी की तरफ बढ़ते चले गए। हरविंद्र सिंह मध्यम वर्गीय किसान परिवार से संबंध रखते हैं। उनके पिता परमजीत सिंह एक किसान तथा उनकी मां हरभजन कौर का निधन हो चुका है। हरविंद्र सिंह की एक भाई व बहन भी है।

27 अगस्त व 3 सितंबर को होने है हरविंद्र सिंह के मुकाबले

हरविंद्र सिंह ने बताया कि उनका क्वालीफाइंग राउंड 27 अगस्त को होना है जिसके बाद व्यक्तिगत मुकाबला 3 सितंबर को होगा। हरविंद्र सिंह ने कहा कि उन्हें पूरा विश्वास है कि इस बार उनका तीर गोल्ड मैडल पर अवश्य लगेगा। टोक्यो पैरा ओलंपिक में चयन के लिए गत 17 जून को सोनीपत में ट्रायल हुए थे। इस कैंप में हरविंद्र सिंह ने भी ट्रायल दिया था। इससे पहले 25 जनवरी को सोनीपत में ही दुबई में होने वाले विश्व रैंकिंग के लिए ट्रायल हुआ था, जिसके बाद 21 से 27 फरवरी तक दुबई में करवाई गई विश्व रैंकिंग प्रतियोगिता में हरविं्रद सिंह ने टीम इवेंट में गोल्ड हासिल किया था। उल्लेखनीय है कि कंपाउंड इवेंट में 50 मीटर और रिकर्व इवेंट में 70 मीटर पर निशाना लगाना होता है। कोरोना के चलते 2020 में पैरा ओलंपिक का आयोजन नही किया जा सका जो अब 2021 में करवाया जा रहा है।

हरविंद्र सिंह की उपलब्धियां

2016 में रोहतक में हुई पहली पैरा प्रतियोगिता में कांस्य पदक हासिल किया।

2017 में तेलंगाना में दूसरी पैरा आर्चरी प्रतियोगिता में रजत पदक।

2017 में बीजिंग में विश्व पैरा आर्चरी में 7वां स्थान।

2018 में हरविद्र इंडोनेशिया में हुई एशियन पैरा गेम्स में भारत के लिए रिकर्व इवेंट में स्वर्ण पदक जीतने वाले देश के पहले तीरंदाज बने थे।

2019 में थाईलैंड में हुई तीसरी एशियन पैरा आर्चरी के टीम इवेंट में कांस्य पदक।

2019 रोहतक में तीसरी पैरा आर्चरी नेशनल प्रतियोगिता में रजत पदक हासिल किया था।

2019 में एशियन पैरा चैंपियनशिप में कांस्य पदक हासिल किया। हरविं्रद सिंह छह बार देश का अंतरराष्ट्रीय स्तर पर प्रतिनिधित्व कर चुके हैं।

जून 2019 में नीदरलैंड में हुई विश्व पैरा आर्चरी चैंपियनशिप में पैरालिंपिक के लिए कोटा हासिल किया।


Next Story