Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

Metro में लापरवाही शुरू : यात्रियों के खड़े होकर यात्रा करने के फोटो वायरल, डीएमआरसी ने किया आगाह

डीएमआरसी के अधिकारियों का कहना है कि यात्रियों को मेट्रो में यात्रा के नए नियम को लेकर कन्फ्यूजन है। शायद इसलिए ही अचानक से भीड़ बढ़ गई थी। हम यह बताना चाहते हैं कि फिलहाल मेट्रो में कुल क्षमता के 20 फीसदी लोगों को ही यात्रा की अनुमति है। लोगों को इसे लेकर गलतफहमी है कि मेट्रो को 100 फीसदी क्षमता के साथ ऑपरेट करने की अनुमति दी गई है।

Metro में लापरवाही शुरू : यात्रियों के खड़े होकर यात्रा करने के फोटो वायरल, डीएमआरसी ने किया आगाह
X

 बहादुरगढ़ सिटी मेट्रो स्टेशन से आते-जाते यात्री।

हरिभूमि न्यूज : बहादुरगढ़

डीएमआरसी ने मेट्रो(Metro) में 100 फीसद सीटिंग कैपेसिटी के साथ यात्रा करने की मंजूरी तो दे दी है, लेकिन यह छूट बहुत से लोगों को रास नहीं आई। काफी लोगों ने मेट्रो में खड़े होकर सफर करने का प्रयास किया। मेट्रो में यात्रियों के खड़े होकर यात्रा करने के फोटो वायरल हुए तो अब डीएमआरसी हरकत में आई है। डीएमआरसी के अधिकारियों ने यह साफ कर दिया है कि मेट्रो में खड़े होकर यात्रा नहीं की जा सकती। यदि कोई ऐसा करता है तो फ्लांइग स्कवॉड टीम जुर्माना कर देगी।

डीएमआरसी के अधिकारियों का कहना है कि यात्रियों को मेट्रो में यात्रा के नए नियम को लेकर कन्फ्यूजन है। शायद इसलिए ही अचानक से भीड़ बढ़ गई थी। हम यह बताना चाहते हैं कि फिलहाल मेट्रो में कुल क्षमता के 20 फीसदी लोगों को ही यात्रा की अनुमति है। लोगों को इसे लेकर गलतफहमी है कि मेट्रो को 100 फीसदी क्षमता के साथ ऑपरेट करने की अनुमति दी गई है। हम फिर से यह दोहरा रहे हैं कि मेट्रो फिलहाल केवल पूरी सीटिंग कैपेसिटी के साथ चल रही है, जो कि पूरी यात्री क्षमता का केवल 20 फीसदी है। इसके पालन को फ्लाइंग स्क्वॉड सुनिश्चित करवाएगा। फ्लाइंग टीमें लगातार गाडि़यों और स्टेशन में लोगों पर नजर रखेंगी। नियम तोड़ने वालों के खिलाफ तुरंत एक्शन लेंगी। नियम तोड़ने पर यात्री पर जुर्माना लगाया जाएगा।

अधिकारी अनुज दयाल ने कहा कि कोरोना का प्रभाव कम हुआ है, लेकिन खतरा टला नहीं है। इसलिए अब भी जागरूकता जरूरी है। लोगों की सुविधाओं के अनुसार डीएमआरसी सेवाओं में विस्तार कर रही है। फिलहाल सभी सीटों पर बैठकर यात्री सफर कर सकते हैं लेकिन खड़े नहीं हो सकते। लोग नियमों का पालन करें और व्यवस्था बनाने में सहयोग करें। पीक ऑवर्स में सफर करने से भी बचें।

और पढ़ें
Next Story