Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

डेंगू मरीज बढ़ने से स्वास्थ्य विभाग अलर्ट, स्पेशल वार्ड बनाया

डेंगू के मामले सामने आने पर स्वास्थ्य विभाग की टीमें घर-घर दस्तक दे रही हैं। स्वास्थ्य कर्मियों द्वारा बुखार से पीडि़त लोगों के खून के नमूने लेकर जांच के लिए भेजे जा रहे हैं। बाकायदा घर-घर जाकर लोगों को डेंगू, मलेरिया व कोरोना से बचाव के लिए जागरूक करते हुए पोस्टर आदि भी वितरित किए जा रहे हैं।

डेंगू मरीज बढ़ने से स्वास्थ्य विभाग अलर्ट, स्पेशल वार्ड बनाया
X

खून का सैंपल लेते हुए स्वास्थ्यकर्मी। 

हरिभूमि न्यूज. जींद

कोरोना संक्रमण के साथ ही डेंगू के मामले सामने आने पर विभाग अब सतर्क हो गया है। डेंगू जिला में पांव न पसार पाए, इसके लिए विभाग ने नागरिक अस्पताल में स्पेशल डेंगू वार्ड बना दिया है जिसमें मरीजों के लिए जाली युक्त बैड व दवाओं का पूर्ण प्रबंध किया गया है। इसके अलावा स्वास्थ्य स्टाफ को भी अलर्ट किया गया है। जिले में सितंबर में अबतक डेंगू के छह मरीज सामने आ चुके हैं और सभी को अस्पताल में भर्ती करवाया गया है। सोमवार को भी डेंगू का एक मरीज सामने आया है जो जींद से बाहर का बताया जा रहा है। 10 दिन पहले भी दो मरीज सामने आए थे और अब भी दो और मरीज सफीदों में पॉजिटिव मिले हैं। गत 18 सितंबर से लेकर अब तक तीन केस कोरोना के आ चुके हैं।

जिले में सबसे ज्यादा वर्ष 2015 में 668 डेंगू के मामले सामने आए थे। उसके बाद स्वास्थ्य विभाग द्वारा चलाए गए जागरूकता अभियान से साल दर साल डेंगू का प्रकोप कम होता चला गया। विभाग की तरफ से सितंबर व अक्तूबर डेंगू के लिए पीक सीजन माना जाता है। डेंगू का मच्छर साफ पानी पर पनपता है। यह मौसम मच्छरों के पनपने लिए पूरी तरह से अनुकूल है। अब एक बार फिर से डेंगू ने दस्तक दी है तो स्वास्थ्य विभाग सतर्क हो गया है। अब एक बार फिर डेंगू के मामले सामने आने पर विभाग ने अपने स्तर पर कार्रवाई शुरू कर दी है।

डेंगू के मामले सामने आने पर विभाग ने बढ़ाई सतर्कता

डेंगू के मामले सामने आने पर विभाग ने पहले से भी 'यादा अपनी सतर्कता को बढ़ा दिया है। नागरिक अस्पताल में अलग से स्पेशल डेंगू वार्ड बना दिया गया है। इसके अलावा डेंगू बीमारी को प्रयोग की जाने वाली दवाओं की पर्याप्त मात्रा विभाग के पास है। स्वास्थ्य निरिक्षक राममेहर वर्मा की अगुवाई मे स्वास्थ्यकर्मियों ने घर-घर जाकर आम जनता को डेंगू, मलेरिया व चिकनगुनिया बुखार के लक्ष्ण, कारण व बचाव की जानकरी दी गई और घरों में रखे कूलर, पानी की टंकी व होदियों को जांचा जा रहा है और बुखार पीडि़तों के खून के सैंपल लेने के लिए भी अभियान चलाया हुआ है।

बुखार होने पर घबराने की बजाए कोरोना व डेंगू की जांच करवाएं

डिप्टी सिविल सर्जन (मलेरिया) डा. तीर्थ बागड़ी बाने बताया कि बुखार होने पर घबराने की बजाय तुरंत कोरेाना व डेंगू की जांच करवाएं। जिला में डेगू की रोकथाम के लिए स्वास्थ्य प्रशासन द्वारा हरसंभव उपाय किए जा रहे हैं। स्वास्थ्यकर्मी गांव-गांव व शहर की प्रत्येक कालोनी में जाकर लोगों को मौसमी बीमारियों के प्रति जागरूक करने का काम कर रहे हैं।

नि :शुल्क जांच व इलाज जिला के सभी सरकारी अस्पतालों में उपलब्ध

सीएमओ डा. जेएस पूनिया ने बताया कि मलेरिया, डेंगू व चिकनगुनिया की निशुल्क जांच व इलाज जिला के सभी सरकारी अस्पतालों में उपलब्ध है। उन्होंने आमजन से आह्वान किया है कि वे बुखार होने पर चिकित्सक की सलाह अवश्य लें।

वार्ड वाइज करवाई जाए फोगिंग : डीसी

उपायुक्त नरेश नरवाल ने स्वास्थ्य विभाग व नगर परिषद को निर्देश दिए कि मलेरिया, डेंगू, चिकनगुनिया के फैलाव पर अंकुश के लिए सफाई व्यवस्था को और सुदृढ़ की जाए। इसके साथ-साथ मच्छरों को पनपने से रोकने के लिए वार्ड वाइज फोगिंग करवाई जाए। उन्होंने कहा कि सभी विभागाध्यक्ष अपने कार्यालयों के भवनों की छतों पर पानी की टंकियों की समय-समय पर साफ-सफाई करवाना सुनिश्चित करें। सभी टंकियों पर ढक्कन लगे होने चाहिए तथा कार्यालयों में सही ढंग से सफाई व्यवस्था हो।

Next Story