Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

हरियाणा पुलिस के लिए अमंगल रहा मंगल : एक ही दिन में 13 अधिकारी और कर्मचारी सस्पेंड, जानिए किन-किस मामले में गिरी गाज

गृहमंत्री अनिल विज ने पानीपत के सीआईए-टू प्रभारी समेत आठ पुलिस अधिकारियों व कर्मचारियों को सस्पेंड किया है। यमुनानगर में एसपी ने थाना प्रभारी व हैड कांस्टेबल सहित दो होमगार्डों और फतेहाबाद में एसपी ने सब इस्पेंक्टर को सस्पेंड किया है।

3 कॉन्स्टेबल सस्पेंड, शराब पीकर उत्पात मचाने और अनुशासनहीनता के चलते हुई कार्रवाई
X

पुलिस कर्मचारी सस्पेंड

मंगलवार का दिन हरियाणा पुलिस के लिए अमंगल ही रहा। एक ही दिन में पुलिस के 13 अधिकारी और कर्मचारी सस्पेंड कर दिए गए। प्रदेश के तीन मामलों में इन अधिकारियों पर गाज गिरी है। मंगलवार को गृहमंत्री अनिल विज ने पानीपत के सीआईए-टू प्रभारी समेत आठ पुलिस अधिकारियों व कर्मचारियों को सस्पेंड कर दिया। वहीं यमुनानगर में गांव नागल में दो समुदायों के बीच हुए खुनी संघर्ष में लापरवाही बरतने पर एसपी ने थाना प्रभारी व हैड कांस्टेबल सहित दो होमगार्डों को निलंबित कर दिया। तीसरे मामलेे में फतेहाबाद के एसपी ने वीडियाे वायरल होने पर एक सब इस्पेंक्टर को सस्पेंड किया है।

पहला मामला : मंत्री विज ने एक साथ आठ कर्मचारी किए सस्पेंड

हरियाणा के गृहमंत्री अनिल विज ने पानीपत पुलिस की सीआईए-टू के प्रभारी समेत आठ पुलिस अधिकारियों व कर्मचारियों को पद से निलंबित करने के आदेश देते हुए, इन पर दर्ज केस की निष्पक्ष जांच कराने के निर्देश पुलिस के एसपी को शशांक सावन को दिए हैं। सीआईए-टू के प्रभारी वीरेंद्र, सब इंस्पेक्टर जयवीर राणा, एएसआई सुमित दहिया, राजेश, थाना चांदनी बाग में नियुक्त सब इंपेक्टर सुभाष, तीन अन्य पुलिस अधिकारी व राजीव निवासी पटना, बिहार पर थाना सिटी में उद्यमी राजकुमार आहुजा पुत्र हीरलाल आहुजा निवासी सनौली रोड पानीपत का अपहरण कर उससे 25 लाख की उगाही करने के आरोप में केस दर्ज है। यह केस, अदालत के आदेश पर 25 दिसंबर को दर्ज किया गया था। पुलिस द्वारा इस मामले में चुप्पी साधे जाने को लेकर पीड़ित राजकुमार आहुजा के पिता हीरलाल आहुजा गृह मंत्री अनिल विज से मिले और न्याय की अपील की। विज ने पानीपत पुलिस प्रशासन से पूर जानकारी ली और सीआईए-टू के आरोपित पुलिस अधिकारियों व कर्मचारियों को निलंबित करने व इनके खिलाफ विभागीय जांच कराने के निर्देश दिए।

दूसरा मामला : यमुनानगर में थाना प्रभारी व हैडकांस्टेबल सस्पेंड

यमुनानगर जिले के गांव नागल में दो समुदायों के बीच हुए खुनी संघर्ष में लापरवाही बरतने पर पुलिस अधीक्षक कमलदीप गोयल ने जठलाना थाना प्रभारी पूर्ण सिंह व हैड कांस्टेबल संदीप को सस्पेंड किया। जबकि दो होमगार्डों पर भी कार्रवाई की गई है। रविवार रात को गांव नागल में एक समुदाय के यहां शादी समारोह में डीजा बजाया जा रहा था। वहीं, दूसरे समुदाय के यहां आयोजित जागरण में लाउडस्पीकर बजाया जा रहा था। इस दौरान एक पक्ष की शिकायत पर थाना जठलाना प्रभारी पूर्ण सिंह व हैडकांस्टेबल संदीप अन्य पुलिस कर्मचारियों के साथ नागल में पहुंचे थे। इस दौरान पुलिस ने एक पक्ष का डीजे बंद करवा दिया। इस दौरान जठलाना थाना प्रभारी पूर्ण सिंह दोनों समुदायों को समझाने में लापरवाही बरत गए और सोमवार सुबह दोनों समुदायों के बीच खूनी संघर्ष हो गया। इसी लापरवाही की वजह से थाना प्रभारी और हैडकांस्टेबल को संस्पेंड कर दिया गया।

तीसरा मामला : गाड़ी चालक पर रौब झाडऩे पर सब इंस्पेेक्टर सस्पेंड

फतेहाबाद में एसपी सुरेन्द्र सिंह भोरिया ने फतेहाबाद शहर थाना में तैनात एसआई वीरेंद्र सिंह सस्पेंड किया है। वीरेन्द्र सिंह का एक गाड़ी चालक के साथ झगड़ा करते हुए वीडियो वायरल हुआ है, जिस पर एसपी ने यह कार्यवाही की है। एसआई वीरेन्द्र सिंह ने लघु सचिवालय के समीप एक गाड़ी चालक को रोका और उसे बेरिकेट तक छोडऩे की बात कही लेकिन गाड़ी चालक ने पुलिस कर्मचारी को छोडऩे से इंकार कर दिया। इस पर एसआई साहब भड़क गए और गाड़ी चालक पर पुलिस की वर्दी का रौब झाडऩे लगे लेकिन गाड़ी चालक भी न छोडऩे की बात पर अड़ा रहा और इसको लेकर उसने अपने मोबाइल पर वीडियो भी बना लिया। जैसे ही यह वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुआ और एसपी तक पहुंचा तो उन्होंने तुरंत इस मामले में संज्ञान लेते हुए एसआई वीरेन्द्र सिंह को सस्पेंड कर दिया।

और पढ़ें
Next Story