Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

जियो टैगिंग से एक-एक पौधे की होगी मॉनिटरिंग, इस वर्ष प्रदेश में तीन करोड़ पौधे लगाने का लक्ष्य

जियो टैगिंग से एक-एक पौधे की होगी मॉनिटरिंग, इस वर्ष प्रदेश में तीन करोड़ पौधे लगाने का लक्ष्य
X

वन एवं वन्य जीव विभाग के पौधारोपण अभियान एवं जियो टैगिंग योजना की समीक्षा बैठक करते सीएम मनोहर लाल। 

हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने वन विभाग के अधिकारियों को सघन पौधारोपण अभियान में जनभागीदारी सुनिश्चित करने के लिए योजना पर व्यापक काम करने के निर्देश दिए हैं। मुख्यमंत्री आज यहां वन एवं वन्य जीव विभाग के पौधारोपण अभियान एवं जियो टैगिंग योजना की समीक्षा बैठक की अध्यक्षता कर रहे थे। इस वर्ष प्रदेश में तीन करोड़ पौधे लगाए जाने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है। हरियाणा के वन एवं वन्य जीव मंत्री कंवर पाल भी बैठक में मौजूद रहे।

मुख्यमंत्री ने कहा कि यह वर्ष आक्सी-वन वर्ष के नाम से जाना जाए, इस मानसिकता के साथ अधिकारी कार्य करें। इस सीजन के दौरान प्रदेश में पर्यावरण एवं जल संरक्षण का ध्येय ध्यान में रखते हुए पौधारोपण अभियान को चलाएं और इस अभियान में न केवल स्कूली विद्यार्थियों बल्कि आमजन को भी भागीदार बनाएं। मुख्यमंत्री ने कहा कि वन विभाग ऐसी योजना बनाए कि आमजन को वर्षा के सीजन में पौधे आसानी से और उनके घरों के नजदीक उपलब्ध हो सकें । उन्होंने इसके लिए तकनीकी संसाधनों का उपयोग करते हुए योजना बनाने को कहा ताकि पौधे जनता को सुलभता से मिल सके ।

जियो टैगिंग योजना से प्रदेश में लगाए जाने वाले हर पौधे की मोनिटरिंग हो सकेगी। इस योजना को सफल बनाने के लिए ड्रोन मैपिगं करवाई जाएगी। मुख्यमंत्री ने अधिकारियों को निर्देश दिए कि इस संदर्भ में बारीकी से कार्य कर योजना बनाएं ताकि लगाए गए पौधों में से अधिक से अधिक सजीव रहें। उन्होंने इसके लिए बीते वर्ष में चलाए गए पौधागिरी अभियान के साथ विद्यार्थियों को जोड़ने की योजना पर काम करने को कहा और इसके लिए प्रोत्साहन राशि भी निर्धारित करने को कहा ताकि बच्चे समय समय पर खुद के लगाए पौधे की देखरेख करते रहें।

2800 गांवों का पौधारोपण के लिए चयन

बैठक में बताया गया कि विभाग ने पौधारोपण अभियान के लिए 2800 गांवों का चयन किया है और इन गांवों में पौधारोपण के लिए स्थलों का भी निर्धारण कर लिया है। इसके अलावा कौन सी नर्सरी में किस किस किस्म के पौधे उपलब्ध हैं, उनकी भी विस्तृत रिपोर्ट तैयार कर ली गई है। बैठक में प्रदेश में कितने नैशनल पार्क और अन्य वन्य जीव स्थलों के साथ साथ वन क्षेत्र की भी जानकारी दी गई।

इस मौके पर वन एवं वन्य जीव विभाग प्रधान सचिव जी अनुपमा, मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव वी उमाशंकर, अतिरिक्त प्रधान सचिव डा. अमित अग्रवाल, पीसीसीएफ विजय सिंह तंवर सहित विभाग के कई अधिकारी मौजद रहे।

Next Story