Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

खुफिया तंत्र के कई अफसर क्वारेंटाइन, नक्सलियों के विरुद्ध चला रहे अभियान पर सीधा असर

प्रदेश में कोरोना संक्रमण की मार के कारण कई लोगों को हाेम क्वारेंटाइन होना पड़ा है। सुरक्षा में जुटी पुलिस भी संक्रमित बीमारी के प्रभाव में आ गई है। कई अफसरों को होम क्वारेंटाइन होने मजबूर होना पड़ रहा है। इसका असर सीधे पुलिस के गुप्तचर विभाग यानी खुफिया तंत्र पर पड़ा है, जिसके बाद नक्सली खेमे के विरुद्ध चल रहे ऑपरेशन को अंजाम देने की चिंता बढ़ गई है। कोरोना की दहशत ने पुराने पीचक्यू की बिल्डिंग में इंटेलिजेंस दफ्तर में कामकाज ठप कर दिया है। एडीजी से लेकर डीआईजी और फिर बाकी स्टाफ होम क्वारेंटाइन हो गए हैं।

corona
X
corona

रायपुर. प्रदेश में कोरोना संक्रमण की मार के कारण कई लोगों को हाेम क्वारेंटाइन होना पड़ा है। सुरक्षा में जुटी पुलिस भी संक्रमित बीमारी के प्रभाव में आ गई है। कई अफसरों को होम क्वारेंटाइन होने मजबूर होना पड़ रहा है। इसका असर सीधे पुलिस के गुप्तचर विभाग यानी खुफिया तंत्र पर पड़ा है, जिसके बाद नक्सली खेमे के विरुद्ध चल रहे ऑपरेशन को अंजाम देने की चिंता बढ़ गई है। कोरोना की दहशत ने पुराने पीचक्यू की बिल्डिंग में इंटेलिजेंस दफ्तर में कामकाज ठप कर दिया है। एडीजी से लेकर डीआईजी और फिर बाकी स्टाफ होम क्वारेंटाइन हो गए हैं।

मेडिकल टेस्ट कराने के बाद रिपोर्ट आने की चिंता है। अफसरों के दफ्तर से दूरियां बढ़ा लेने के बाद गुप्तचर विभाग में कामकाज बड़े स्तर पर प्रभावित हो गया है। एक करीबी सूत्र के मुताबिक इंटेलिजेंस ने हाल ही में नक्सली खेमे के विरुद्ध बड़े आकाओं की धरपकड़ करने उन्हें वांटेड घोषित करने के साथ बीहड़ के हिस्सों में पर्चा चस्पा करने अभियान छेड़ा है, काेरोना का प्रभाव होने से अब इसकी मॉनिटरिंग ठीक तरह से होना मुश्किल हो गई है। एसआईबी की बिल्डिंग से अफसरों के दूर होते ही को-आर्डिनेट का सिस्टम गड़बड़ा गया है। नक्सलियों द्वारा पर्चियां बांटने के जवाब में हाल ही में पुलिस महकमें ने बड़े नक्सलियों के बारे में पंप्लेट छपावाकर उसे गांव-गांव में बंटवाने काम शुरू किया था। गर्मी के जाते और बारिश के शुरू होने का वक्त नक्सलियों के लिए बहुत अहम माना जाता है। डीजीपी डीएम अवस्थी का कहना है, समय-समय पर पुलिस ने नक्सलियों का नेटवर्क ध्वस्त किया है। सर्विलांस सिस्टम कभी भी कमजोर नहीं है। नक्सल ऑपरेशन से जुड़े अफसर नक्सलियों की गतिविधियों पर नजरें जमाए हुए हैं।

शहर में कुछ दिन पहले ही बड़ा नेटवर्क फूटा

हाल ही में राजधानी में पुलिस ने एक नक्सली नेटवर्क का खुलासा किया था। वॉकी-टॉकी और दूसरे तरह के इलेक्ट्रानिक डिवाइस की सप्लाई की सूचना मिलने पर कांकेर पुलिस की टीम ने लोकल नेटवर्क का पर्दाफाश करते हुए रायपुर के एक कारोबारी की गिरफ्तारी की थी। अब तक की कार्रवाई में लगभग हर साल बारिश के पहले रायपुर से शहरी नेटवर्क का पर्दाफाश होता आया है।

मार्च में जवानों पर कर चुके बड़ा अटैक

लॉकडाउन के दौरान नक्सली मार्च में बड़ी घटना को अंजाम दे चुके हैं। सुकमा में गश्त के दौरान जवानों की टोली पर गोलियां बरसाई। इस घटना में 17 जवान शहीद हो गए। इसके बाद बस्तर संभाग के कई हिस्सों में नक्सलियों ने अटैक की कोशिश की। निर्माण कार्याें पर दखल देते हुए खौफ फैलाया। मुठभेड़ के दौरान विडियो बनाकर उसे वायरल भी किया।

150 से ज्यादा लोगों के सैंपल का परीक्षण लैब में

एडीजी के यहां दो ड्राइवरों के कोरोना संक्रमित और फिर पुलिस हाऊसिंग कार्पाेरेशन के स्टाफ में से छह लोगों के पॉजिटिव पाए जाने के बाद पूरे पीएचक्यू कैंपस में आने जाने वालों का मेडिकल परीक्षण कराया गया है। एक करीबी सूत्र के मुताबिक वरिष्ठ अफसरों के साथ स्टाफ से करीब डेढ़ सौ लोगों के सैंपल जांच के लिए लैब भेजे गए। अभी पूरी रिपोर्ट आना बाकी है।

Next Story