Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

गुड़ को सड़ाकर, सौंफ मिलाकर बना रहा था मौत की शराब, आरोपी गिरफ्तार

आरोपी के पास से कच्ची शराब और उपकरण बरामद, पहले भी जा चुका है जेल, पुलिस के मुताबिक आरोपी जगतार कोरोना लॉकडाउन के समय से गुड़ व साैंफ मिलाकर कच्ची शराब बनाने का अवैध कारोबार कर रहा है। आरोपी को पहले भी कच्ची शराब बनाकर बेचते समय पकड़ा गया था। उसे जेल भेज दिया गया था। हफ्तेभर पहले ही आरोपी जेल से छूटकर आया है। पढ़िए पूरी ख़बर...

गुड़ को सड़ाकर, सौंफ मिलाकर बना रहा था मौत की शराब, आरोपी गिरफ्तार
X

रायपुर: आमानाका में पुलिस ने गुड़ और सौंफ मिलाकर कच्ची शराब बनाने की अवैध फैक्ट्री का भंडाफोड़ किया है। आमानाका पुलिस ने अवैध शराब बेचने के आरोप में जगतार सिंह को गिरफ्तार किया है। उसके पास से 90 लीटर कच्ची शराब, ड्रम, जरिकन और पतिला में रखे 90 लीटर रॉ-मटेरियल और शराब बनाने का उपकरण बरामद किया गया है। शराब बनाने की सूचना पर आमानाका पुलिस ने आरोपी को दबोचा है। आरोपी हफ्तेभर पहले ही जेल से छूट कर आया और फिर से शराब बनाने के काम में जुट गया था। टीआई याकूब मेमन ने बताया कि गुरुद्वारा के पास आमानाका निवासी जगतार सिंह को अवैध शराब बनाकर बेचते रंगे हाथ पकड़ा गया। आरोपी के खिलाफ आबकारी एक्ट के तहत केस दर्ज किया गया।

शराब तस्करी पर नहीं लगा रोक

जानकारी के मुताबिक रायपुर में कच्ची शराब ही नहीं, बल्कि दूसरे राज्यों की अंग्रेजी ब्रांड की महंगी शराब की तस्करी भी सालभर होती रही। रायपुर में सालभर में शराब तस्करी के बड़े खेप के करीब 180 मामले पुलिस ने पकड़ी। इनमें अधिकांश शराब मध्यप्रदेश या फिर हरियाणा की थी। इसके बाद शराब तस्करों का नेटवर्क पूरी तरह से ध्वस्त नहीं हुआ।

ऐसे बनाता था शराब

पुलिस के मुताबिक आरोपी जगतार सिंह गुड़ और सौंफ को मिलाकर ड्रम में रख देता था। एक किग्रा गुड़ में 5 लीटर के हिसाब से पानी मिलाता था। उसे हफ्तेभर से गुड़ व सौंफ पानी में सड़ाता था। उस पानी को निकाल कर चुल्हे पर गर्म करता था। इसके बाद उसकी शराब तैयार कर लेता था।

कच्ची शराब होती है खतरनाक

पुलिस के मुताबिक आरोपी जगतार सिंह कच्ची शराब तैयार कर पाउच में भरकर बेचता था, लेकिन उस शराब की तीव्रता मापने का इंतजाम नहीं है। ऐसे में कच्ची शराब की तीव्रता 100 डिग्री से अधिक हो सकती है। ऐसी शराब पीना जानलेवा साबित हो सकती है।

Next Story