Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

कहर बरपा रहा कोरोना, शव को नदी में फेंक कर भाग गए लोग, पुलिस वाले इस बात से हुए भयभीत

बिहार के मधेपुरा जिले में कोरोना महामारी के बीच मानवता भी शर्मसार हो रही है। यहां एक ओर से तो कोरोना लोगों की जान ले रहा है। वहीं दूसरी ओर यहां शव का सम्मान के साथ अंतिम संस्कार भी नहीं किया जा रहा है।

Madhepura People escaped throwing dead body in the river And police afraid Corona Bihar Coronavirus latest update
X

प्रतीकात्मक तस्वीर

बिहार (Bihar) के मधेपुरा जिले (Madhepura district) में एक ओर तो कोरोना वायरस (Coronavirus) कहर बनकर टूट रहा है। कोरोना महामारी (Corona epidemic) की वजह से जिले में रोजाना कई लोगों की मौत हो रही है। वहीं जिले में लोगों की मौत के बाद उनके शव का सम्मान के साथ अंतिम संस्कार भी नहीं किया जा रहा है। स्थितियां ऐसी हो गई हैं कि लोग शव को नदी में फेंक कर मौके से गायब हो रहे हैं। सबसे हैरानी का मामला तो ये है कि पुलिस-प्रशासन (Police administration) भी इस तरह की लावारिश लाश (Unclaimed dead body) की कोई खोज-खबर नहीं ले रहा है। कोरोना संक्रमित शख्स की लाश होने का हवाला देकर शव को नदी से निकाल कर उसका अंतिम संस्कार करने की जरूरत भी महसूस नहीं की जा रही है।

बताया जा रहा है कि बीते सोमवार दोपहर को एक शव वाहन में सवार होकर दो से तीन की संख्या में लोग भिरखी पुल के समिप पहुंचे। इसके बाद ये सभी लोग वाहन से उतरे। इन्होंने पीपीई किट पहनी थी। फिर उन लोगों ने एक शव पुल के पास ही नदी में फेंक दिया। मृतक के शव को काले रंग की पॉलीथिन में पैक किया गया है। नदी में शव को फेंकने के बाद वो लोग वहां से चुपचाप निकल लिए। इसके बाद स्थानीय लोगों ने नदी में शव को फेंक दिए जाने की सूचना पुलिस को दी।

सूचना मिलने के बाद पुलिस मौके पर भी पहुंचे। लेकिन इन पुलिस कर्मियों ने शव को नदी में निकालने का प्रयास नहीं किया और सभी पुलिस शव को नदी में ही छोड़कर वापस लौट गए। अगले दिन मंगलवार को थाना अध्यक्ष सुरेश कुमार सिंह ने कहा कि नदी में कोरोना पॉजिटिव व्यक्ति की लाश को फेंका गया था। उस लाश को निकाल कर क्या किया जाएगा। मामले पर एसडीएम नीरज कुमार का कहना है कि शव को इस तरह छोड़ा नहीं जा सकता है। इस मामले को लेकर जरूरी कार्रवाई की जाएगी।

Next Story