Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

बजट पर पोंगा पंडित बनकर टिप्पणी न करें नेता प्रतिपक्ष, सिर्फ देश की तरक्की कर रहे हम: मंगल पाण्डेय

Budget 2021: लोकसभा में आज आम बजट 2021 पेश किया गया। जहां बिहार भापजा नेता मंगल पाण्डेय ने इसे देश की तरक्की के लिए बहुत अच्छा बजट करार दिया। साथ ही बजट की आलोचना करने पर नेता प्रतिपक्ष को खरी-खरी सुनाई।

BJP leader Mangal Pandey targeted Tejashwi Yadav for criticizing general budget
X

केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण 

Budget 2021: केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने सोमवार को लोकसभा में बजट-2021 पेश किया। जिसके साथ ही बिहार में भी इसको लेकर सत्ता पक्ष और विपक्षियों के बीच रार छिड़ गई है। नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने आज मीडिया कर्मियों से बातचीत करते वक्त एवं सोशल मीडिया के जरिए बजट-2021 को बिहार के लिए पूरी तरह से निराशाजनक करार दिया। वहीं बिहार के स्वास्थ्य मंत्री एवं भाजपा नेता मंगल पाण्डेय ने सोमवार को ट्वीट कर इस बजट को देश की तरक्की करने वाला बजट करार दिया है। साथ बजट की आलोचना करने पर नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव को आड़े हाथों लिया है।

भाजपा नेता मंगल पाण्डेय ने लिखा कि भाजपा सिर्फ और सिर्फ भारत की तरक्की और इस देश के लोगों की तरक्की के लिए दृढ़ संकल्पित है। नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव पोंगा पंडित की तरह अर्थशास्त्री बनने का प्रयास ना करें।

मंगल पाण्डेय ने तेजस्वी यादव पर पलटवार करते हुए कहा कि रेलवे के होटलों को बेचकर अपने और अपने परिवार के लिए बिहार का सबसे बड़ा मॉल बनाया है। वहीं अब तेजस्वी यादव का कुनबा आम लोगों के बजट को गलत तरीके से पेश कर रहा है। बेचने व खरीदने का काम आप और आपके परिवार के लोगों ने किया है।

मंगल पाण्डेय ने तेजस्वी यादव पर तीखा हमला बोलते हुए कहा कि नेता प्रतिपक्ष को अनुग्रह नारायण और श्रीकृष्ण सिंह में अंतर का पता नहीं है। लेकिन बजट-2021 के आते ही राजद नेता तेजस्वी हार्वर्ड के अर्थशास्त्री बन गए हैं।

तेजस्वी यादव ने एनडीए सांसदों पर उठाए सवाल

इससे पहले सोमवार को ही ट्वीट कर नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने केंद्रीय बजट के खिलाफ सवाल उठाए थे। तेजस्वी यादव लिखा कि बिहार में कुल 40 सांसदों में 39 सांसद तो केवल एनडीए ( NDA) के ही हैं। बावजूद इसके बजट में बिहार के लिए कोई नई यूनिवर्सिटी, हॉस्पिटल, राष्ट्रीय राजमार्ग, कारखाना, औद्योगिक इकाई, रेलवे लाइन व इंफ्रास्ट्रक्चर प्रॉजेक्ट नहीं दिया गया है। बल्कि ऊपर से आम आदमी पर बोझ लाद दिया गया है कि केंद्र सरकारी प्रतिष्ठान बेच रही है। फिर भी बिहार एनडीए (NDA) के 40 में से 39 सांसद मेज थपथपा रहे थे। जो शर्मनाक है!

Next Story