Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

Bihar Assembly Elections 2020: राहुल गांधी बोले- महात्मा गांधी ने भी चंपारण से अंग्रेजों के खिलाफ किया था जंग का ऐलान

बिहार विधानसभा चुनाव 2020: कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने बताया कि महात्मा गांधी द्वारा भी अंग्रेजों के खिलाफ जंग का ऐलान बिहार के चंपारण से किया गया था। इस दौरान राहुल गांधी ने पंजाब में दशहरे के अवसर पर पीएम नरेंद्र मोदी के पुतले जलाये जाने पर भी तंज कसा।

bihar assembly elections 2020 rahul gandhi taunted over burning of effigies of pm narendra modi in punjab
X

बिहार विधानसभा चुनाव 2020: पश्चिमी चंपारण में जनसभा को संबोधित करते कांग्रेस नेता राहुल गांधी। 

Bihar Assembly Elections 2020: कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने बुधवार को बिहार के पश्चिमी चंपारण में महागठबंधन के प्रत्याशियों के पक्ष में जनसभा को संबोधित किया। बिहार में संबोधन के दौरान राहुल गांधी ने बताया कि महात्मा गांधी भी इधर (चंपारण) में आए थे। क्योंकि महात्मा गांधी हिंदुस्तान को समझते थे। उन्हें मालूम था कि हिंदुस्तान को समझना है या हिंदुस्तान को अंग्रेजों से लड़ना है तो लड़ाई बिहार व चंपारण से ही शुरू होगी।



राहुल गांधी ने इस दौरान किसानों की समस्याओं को भी उठाया। राहुल गांधी ने कहा कि ये आपकी सच्चाई है। आपकी गलती नहीं है। आप मत सोचिए कि बिहार के किसान में कोई कमी है या बिहार के युवा में कोई कमी है। कमी केवल नीतीश कुमार में है। कमी आपके प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी में हैं। जो कभी आपको सच नहीं बताते हैं। इस दौरान राहुल गांधी ने पंजाब में पीएम नरेंद्र मोदी के पुतले जलाये जाने का जिक्र किया। उन्होंने कहा कि बड़ी विचित्र व दुख की बात है कि पंजाब का किसान रावण की जगह देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का पुतला जला रहा है। क्यों? इसका कारण यह है कि जो काम नीतीश कुमार ने बिहार के साथ 2006 में किया वो आज नरेंद्र मोदी पंजाब व पूरे देश के साथ कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि पंजाब में दशहरा मनाया गया, आमतौर पर दशहरा में रावण, कुंभकरण व मेघनाथ के पुतले जलाया जाता है। लेकिन ऐसा पहली बार देखने को मिला है कि इस अवसर पर नरेंद्र मोदी, मुकेश अंबानी व गौतम अड़ानी के पुतले जलाए गए।

अपने संबोधन के दौरान राहुल गांधी ने कहा कि लॉकडाउन के दौरान जब मैंने मजदूरों से बात की थी। तब उन्होंने कहा था कि लॉकडाउन करना था तो कर देते। लेकिन इन्होंने हमें 2 या 3 दिन क्यों नहीं दिये। ताकि हम सब बस या ट्रेन से अपने घरों तक पहुंच जाते।

Next Story