Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

सीएम योगी ने सपा-बसपा पर साधा निशाना तो धर्मेंद्र यादव का तीखा पलटवार, बोले- आजमगढ़ केवल...

आजमगढ़ लोकसभा उपचुनाव के बाद पहली बार जिले में पहुंचे सीएम योगी आदित्यनाथ ने सपा-बसपा को राहु-केतु की संज्ञा दी। इस पर धर्मेंद्र यादव भड़क गए। पढ़िये रिपोर्ट...

सीएम योगी ने सपा-बसपा पर साधा निशाना तो धर्मेंद्र यादव का तीखा पलटवार, बोले- आजमगढ़ केवल...
X

सपा के पूर्व सांसद धर्मेंद्र यादव और यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ। 

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath) ने आजमगढ़ में लोकसभा उपचुनाव (Azamgarh Lok Sabha Byelection) के बाद पहले दौरे पर पहुंचे और सपा-बसपा पर प्रहार किया। उन्होंने सपा (Samajwadi Party) और बसपा (BSP) को राहु-केतु की संज्ञा दी तो पूर्व सांसद धर्मेंद्र यादव (Dharmendra Yadav) ने तीखा पलटवार किया। उन्होंने कहा कि सीएम योगी को तंज कसने की बजाय अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) की ओर से कराए गए कार्यों को पूरा करना चाहिए। साथ ही धर्मेंद्र यादव ने दावा किया कि आजमगढ़ हमेशा से सपा का ही है और आगे भी सपा का ही रहेगा।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक प्रयागराज में सपा के सदस्यता अभियान को धार देने जिले में पहुंचे धर्मेंद्र यादव ने कहा कि उन्होंने आजमगढ़ उपचुनाव मेहनत से लड़ा, लेकिन बीजेपी ने बेईमानी से जीत हासिल कर ली। उन्होंने कहा कि मामूली वोटों के अंतर से हराना कोई बड़ी बात नहीं है। उन्होंने कहा कि आजमगढ़ उपचुनाव अगर जीत लिया है तो भी सीएम योगी आदित्यनाथ को जनता के प्रति आभार करना चाहिए और पूर्व सीएम अखिलेश यादव के अधूरे कार्यों को पूरा करना चाहिए।

उन्होंने कहा कि आजमगढ़ सदा से समाजवादी पार्टी के साथ रही और आगे भी रहेगी। उधर, एक सवाल के जवाब में धर्मेंद्र यादव ने कहा कि पार्टी के प्रमुख महासचिव रामगोपाल सीएम योगी से इसलिए मिले ताकि समाजवादियों से हो रहे अत्याचारों से अवगत करा सकें। उन्होंने कहा कि आजम खान, अब्दुल्ला आजम और उनके परिवार से लेकर कई अन्य साथियों के ऊपर केस दर्ज कराए गए हैं, लेकिन हम बीजेपी के अत्याचार का डटकर मुकाबला करेंगे।

निरहुआ ने हराया था धर्मेंद्र यादव को

बीजेपी की ओर से आजमगढ़ लोकसभा उपचुनाव में दिनेश लाल यादव निरहुआ को मैदान में उतारा गया था, जबकि सपा की ओर से मुलायम सिंह यादव के भतीजे धर्मेंद्र यादव को प्रत्याशी बनाया था। निरहुआ ने करीब 8679 वोटों से धर्मेंद्र यादव को परास्त किया था। इस जीत से बीजेपी बेहद उत्साहित है और प्रयासरत है कि आने वाले लोकसभा चुनाव में भी बीजेपी पिछले चुनाव के मुकाबले बड़ी से बड़ी जीत हासिल कर सके।

और पढ़ें
Next Story