Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

दिल्ली हिंसा को मायावती ने बताया दुर्भाग्यपूर्ण, अखिलेश बोले- भाजपा ही कसूरवार

दिल्ली हिंसा को मायावती ने बताया दुर्भाग्यपूर्ण, अखिलेश बोले- भाजपा ही कसूरवार
X

बसपा प्रमुख मायावती और सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव। 

उत्तर प्रदेश के दो प्रमुख दल बहुजन समाज पार्टी (बसपा) और समाजवादी पार्टी (सपा) ने दिल्ली में गणतंत्र दिवस पर हुई हिंसा को दुर्भाग्यपूर्ण बताते हुए इसके लिए केंद्र सरकार को जिम्मेदार बताया है। दोनों दलों ने केंद्र सरकार से मांग की है कि तीनों कृषि कानूनों को रद्द किया जाए ताकि आगे ऐसी कोई अनहोनी घटना न हो सके।

बसपा अध्यक्ष मायावती ने बुधवार सुबह किए ट्वीट में कहा, 'देश की राजधानी दिल्ली में कल गणतंत्र दिवस के दिन किसानों की हुई ट्रैक्टर रैली के दौरान जो कुछ भी हुआ, वह कतई भी नहीं होना चाहिए था। यह अति दुर्भाग्यपूर्ण और केंद्र की सरकार को भी इसे अति गंभीरता से जरूर लेना चाहिए। उन्होंने आगे ऐसी कोई अनहोनी घटना होने से रोकने के लिए केंद्र सरकार से तीनों कृषि कानून जल्द से जल्द वापस लेने की मांग भी की।

मायावती के ट्वीट के बाद सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव का ट्वीट भी सामने आ गया। सपा अध्यक्ष ने कहा, 'भाजपा सरकार ने जिस प्रकार किसानों को निरंतर उपेक्षित, अपमानित व आरोपित किया है, उसने किसानों के रोष को आक्रोश में बदलने में निर्णायक भूमिका निभाई है। अब जो हालात बने हैं, उनके लिए भाजपा ही कसूरवार है। भाजपा अपनी नैतिक जिम्मेदारी मानते हुए कृषि-कानून तुरंत रद करे।'

राजनीति शुरू होने के बाद पुलिस अलर्ट पर

उत्तर प्रदेश में दिल्ली की ट्रैक्टर रैली हिंसा के बाद राजनीति शुरू हो गई है। विपक्षी दलों ने इस हिंसा के लिए जिस तरह से केंद्र सरकार को जिम्मेदार ठहराया शुरू किया है, उसके मद्देनजर यूपी पुलिस अलर्ट पर है। एडीजे लॉ एंड आर्डर प्रशांत कुमार ने बताया कि प्रदेश में कानून व्यवस्था कायम है। हमारे अधिकारी किसानों से लगातार संपर्क में है और सभी जगह शांति कायम है।

बता दें कि दिल्ली में गणतंत्र दिवस पर निकाली जाने वाली ट्रैक्टर रैली में प्रदेश से भी भारी संख्या में किसानों ने हिस्सा लिया। दिल्ली में हुई हिंसा के बाद सभी जगह सुरक्षा इंतजाम बढ़ा दिए गए हैं। नोएडा पुलिस भी लगातार किसानों से संपर्क में हैं। किसानों को आगाह किया जा रहा है कि अपने बीच मौजूद उपद्रवियों की पहचान करें और ऐसी कोई हरकत न होने दें, जिससे कानून व्यवस्था भंग हो।

Next Story