Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

राजस्थान में आमजन के लिए सात सितंबर से खुल सकेंगे धार्मिक स्थल, इन बातों का रखें ख्याल

राजस्थान सरकार ने कोरोना संक्रमण को लेकर आयोजित समीक्षा बैठक के दौरान एक बड़ा निर्णय लिया है। प्रदेश में कोराना संक्रमण के कारण आमजन के लिए बन्द किए गए धर्म स्थल 7 सितम्बर से आमजन के लिए खुल सकेंगे।

राजस्थान में आमजन के लिए सात सितंबर से खुल सकेंगे धार्मिक स्थल, इन बातों का रखें ख्याल
X
राजस्थान धार्मिक स्थल

जयपुर। कोरोना वायरस के बढ़ते प्रकोप के कारण पूरे देश मे लॉकडाउन लगाया गया था। सभी धार्मिक स्थल, स्कूल कॉलेज सभी कुछ को बंद करना पड़ा था। परन्तु लॉकडाउन में ढील दिए जाने के बाद भी कोरोना का कहर कायम है। आज भी लगातार कोरोना वायरस संक्रमितों की संख्या बहुत तेजी से बढ़ती जा रही है। इसी बीच राजस्थान सरकार ने कोरोना संक्रमण को लेकर आयोजित समीक्षा बैठक के दौरान एक बड़ा निर्णय लिया है। प्रदेश में कोराना संक्रमण के कारण आमजन के लिए बन्द किए गए धर्म स्थल 7 सितम्बर से आमजन के लिए खुल सकेंगे।

सभी सुरक्षात्मक उपायों का पालन करना अनिवार्य

धार्मिक स्थलों पर मास्क लगाने, सोशल डिस्टेंसिंग रखने सहित कोरोना से बचाव के सभी सुरक्षात्मक उपायों की पालना करना अनिवार्य होगा। समय-समय पर इन धार्मिक स्थलों को सैनिटाइज भी करना होगा। सम्बन्धित जिलों के कलक्टर एवं एसपी बड़े धार्मिक स्थलों पर जाकर वहां व्यवस्थाएं देखेंगे एवं यह सुनिश्चित करेंगे कि पर्याप्त सुरक्षा उपाय हों तथा सोशल डिस्टेंसिंग की पालना सही तरीके से की जाए।

लोगों से की अपील- धार्मिक स्थलों पर भीड़ न जुटाएं

बैठक में मुख्यमंत्री ने कहा कि अक्सर यह देखने में आया है कि जहां-जहां भीड़ इकट्ठी होती है, वहां कोरोना संक्रमण के मामले बढ़ते हैं। ऐसे में जिला प्रशासन, धर्म गुरूओं एवं धार्मिक स्थलों के संचालन के लिए गठित कमेटी के साथ-साथ दर्शनार्थियों को यह सुनिश्चित करना होगा कि सोशल डिस्टेंसिंग, मास्क पहनने तथा अधिक भीड़ एकत्र नहीं करने सहित भारत सरकार एवं राज्य सरकार द्वारा जारी हेल्थ प्रोटोकॉल की पूरी तरह से पालना हो। उन्होंने आमजन से अपील की कि कोरोना संक्रमण को देखते हुए जहां तक सम्भव हो पूजा, उपासना, प्रार्थना और नमाज घर पर रहकर ही की जाए ताकि धर्म स्थलों पर भीड़ नहीं जुटे। इस दौरान गहलोत ने कहा कि जिला स्तर पर जिला प्रशासन यह सुनिश्चित करे कि बड़े मन्दिरों में विशेष दिनों पर दर्शनार्थियों की भीड़ नहीं जुटे और सोशल डिस्टेंसिंग की पूर्ण पालना हो।

Next Story