Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

शिवराज ने छोड़ी जिद, महाराज और भाजपा नेतृत्व के पाले में गेंद

मंत्रिमंडल की बैठक अब मंगलवार को संभव, मंत्रियों को कभी भी मिल सकते हंप विभाग। पढ़िए पूरी खबर-

शिवराज ने छोड़ी जिद, महाराज और भाजपा नेतृत्व के पाले में गेंद
X

भोपाल। मंत्रियों के बीच विभाग बंटवारे को लेकर 8 दिन से चल रही खींचतान के बीच अच्छी खबर आई है। खबर यह है कि मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने जिद छोड़ दी है। ज्योतिरादित्य सिंधिया की तरह वे भी अपने विश्वस्तों को कुछ महत्वपूर्ण विभाग दिलाने पर अड़े थे। सूत्रों का कहना है कि प्रदेश संगठन से चर्चा के बाद उन्होंने अपना प्रस्ताव भेजकर फैसला केंद्रीय नेतृत्व पर छोड़ दिया है। लिहाजा, विभाग बंटवारे को लेकर गेंद अब भाजपा नेतृत्व एवं ज्योतिरादित्य सिंधिया के पाले में पहुंच गई है। मजेदार बात यह है कि दिल्ली में भी भाजपा नेतृत्व एवं सिंधिया के बीच सहमति न बन पाने की खबर है। इसकी वजह से विभाग बंटवारे का मसला पेचीदा बना हुआ है। एक मंत्री का कहना था कि शुक्रवार रात तक विभागों का बंटवारा हो जाएगा लेकिन खबर लिखे जाने तक ऐसा नहीं हो सका।

निर्णय के लिए सोमवार तक का समय

मंत्रिमंडल विस्तार के तत्काल बाद हुई मंत्रिमंडल की बैठक में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने मंत्रियों से कहा था कि वे कोशिश करें कि दो दिन सोमवार एवं मंगलवार को भोपाल में रहें। हर मंगलवार को मंत्रिमंडल की बैठक हुआ करेगी। तीन बार टलने के बाद अब मंत्रिमंडल की बैठक मंगलवार को होने की संभावना है। इस लिहाज से मंत्रियों को विभाग देने के निर्णय के लिए मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, भाजपा नेतृत्व एवं ज्योतिरादित्य सिंधिया के पास सोमवार तक का समय है।

अधिकांश मंत्रियों ने डाली भोपाल से रवानगी

आठ दिन बाद भी विभाग न मिल पाने से निराश अधिकांश मंत्री भोपाल से रवाना होकर अपने क्षेत्रों में चले गए हैं। मंत्रिमंडल की बैठक कब होगी, यह तय नहीं है। इसलिए अब वे सोमवार तक ही वापस भोपाल आएंगे। उम्मीद की जा रही है कि इससे पहले विभागों का बंटवारा हो जाएगा। सिंधिया खेमे का कहना है कि हमारी वजह से भाजपा सरकार बन गई और मुख्यमंत्री शिवराज सिंह। अब विभागों पर समझौता नहीं किया जा सकता। विवाद लंबा खिंचने की वजह ही यह है। ज्योतिरादित्य सिंधिया सरकार पर अपनी पूरी पकड़ बनाए रखना चाहते हैं।

और पढ़ें
Next Story