Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

अनोखी शादी : दहेज के नाम पर रामायण और एक पौधा लिया

विवाह सूत्र में बंधे पंकज व एकता ने शादी में रामायण लेने का मकसद यही बताया कि हम अब पारिवारिक बंधन में बंध रहे हैं जिसकी कुछ जिम्मेवारियां होती हैं और रामायण से हम यही सब सीखते हैं कि हमें सब के साथ कैसे सामंजस्य स्थापित करना चाहिए और कैसे अपने कर्तव्यों का निर्वहन करते हुए हम जीवन का नया आयाम ढूंढ सकें जिसमें बेहतरीन सम्भावनाएं हों।

अनोखी शादी : दहेज के नाम पर रामायण और एक पौधा लिया
X

फतेहाबाद : घर आने पर दहेज में मिली रामायण दिखाते पंकज व एकता।

हरिभूमि न्यूज : फतेहाबाद

गांव ढाणी ठोबा के पंकज शर्मा ने दहेज प्रथा जैसी सामाजिक बुराई को दरकिनार करते हुए अपने विवाह में मात्र रामायण, एक पौधा, 11 नोटबुक व पेन स्वीकार करके अपना विवाह रचाकर समाज में एक अनूठी मिसाल पैदा की है। दहेज के खिलाफ उनके इस प्रयास की चहुंओर भूरि-भूरि प्रशंसा हो रही है।

बुलंद उडान संस्था से जुड़े पंकज शर्मा पुत्र राजेन्द्र शर्मा निवासी गांव ढाणी ठोबा का विवाह राजस्थान के हनुमानगढ़ जिला के गांव बेहरवालाकलां तहसील टिब्बी में बृजलाल शर्मा की बेटी एकता से हुआ है। शादी के समय जब दहेज की बात चली तो पंकज शर्मा ने अपनी संस्था बुलंद उड़ान के लेन-देन-बैन की बात कहते हुए कहा कि उनको विवाह में सिर्फ एक रामायण, एक पौधा, 11 नोटबुक व 11 पैन ही चाहिए। उनकी इस मांग को सुनकर उनके ससुरालजनों को भी अपने दामाद पर फक्र महसूस हो रहा है।

विवाह सूत्र में बंधे पंकज व एकता ने शादी में रामायण लेने का मकसद यही बताया कि हम अब पारिवारिक बंधन में बंध रहे हैं जिसकी कुछ जिम्मेवारियां होती हैं और रामायण से हम यही सब सीखते हैं कि हमें सब के साथ कैसे सामंजस्य स्थापित करना चाहिए और कैसे अपने कर्तव्यों का निर्वहन करते हुए हम जीवन का नया आयाम ढूंढ सकें जिसमें बेहतरीन सम्भावनाएं हों।

आपको बता दें कि बुलंद उड़ान टीम पिछले 8-9 साल से बच्चों व महिलाओं के अधिकार पर काम कर रही है। इनकी द्वारा चलाई हुई नई मुहिम जोकि लेन-देन-बैन नाम से है, जिसका उद्देश्य शादी समारोह में अनावश्यक लेन देन पर रोक लगाना है। उसी मुहिम का पालन करते हुए बुलंद उड़ान के सदस्य पंकज शर्मा ने भी अपने विवाह में मात्र रामायण, पौधा, नोटबुक व पैन लेकर हमारे समाज को एक बहुत ही बेहतरीन संदेश दिया है। इस खुशी के मौके पर बुलंद उड़ान की फाउंडर एंड सीईओ अंजू वर्मा और संस्था के सदस्य रमेश, विकास, दिव्या, सुखदेव, चंद्रभान, कुलदीप व आनंद भी मौजूद थे।

Next Story