Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

फसल पकते ही आग का तांडव शुरू : दो गांवों में लगी आग, 15 एकड़ में गेहूं की फसल जली

किसान आंदोलन में तैनात फायर की गाड़ियों व ग्रामीणों ने आग पर पाया काबू, गांव जाखौली और पाबसरा के किसानों का काफी नुकसान हुआ है।

फसल पकते ही आग का तांडव शुरू : दो गांवों में लगी आग, 15 एकड़ में गेहूं की फसल जली
X

गेहूं की फसल में लगी आग।

हरिभूमि न्यूज. सोनीपत

गेहूं की फसल पकने के साथ ही आग का तांडव शुरू हो गया है। रविवार को गांव जाखौली, पाबसरा के किसानों की करीब 15 एकड़ फसल जलकर राख हो गई। आग की सूचना मिलते ही ग्रामीण खेतों की तरफ दौड़ पड़े। वहीं अग्नि समन विभाग की गाड़ियां मौके पर पहुंची। ग्रामीणों व अग्नि समन कर्मचारियों ने कड़ी मशक्त के बाद आग पर काबू पाया। जब तक आग पर काबू पाया जाता तब तक कई एकड़ फसल आग में सवा हो चुकी थी। ग्रामीणों ने जिला प्रशासन व सरकार से गिरदावरी करवाकर मुआवजा देने की अपील की है।

गांव पाबसरा व जाखौली निवासी बलराम, नीरज, धर्मेद, अकबर ने बताया कि दिन में करीब डेढ़ बजे खेतों में अज्ञात कारणों के चलते आग लग गई। आग की सूचना मिलते ही ग्रामीण मौके पर पहुंचे। ग्रामीणों ने अपने स्तर पर आग पर काबू पाने की कोशिश की, लेकिन सफल नहीं हो सके। मामले की सूचना मिलते ही अग्नि समन विभाग की तरफ से कुंडली बार्डर पर चल रहे कृषि कानूनों के विरोध में धरने पर भेजी गई गाड़ियों को आग पर काबू पाने के लिए भेजा गया। विभाग से मिली जानकारी के अनुसार तीन गाड़ियां मौके पर पहुंची। जिसके बाद ग्रामीणों के साथ मिलकर आग पर काबू पाया गया। आग पर काबू पाया जाता तब तक ग्रामीण बलराम की ढाई बीघा व कृष्ण की तीन एकड़ फसल जलकर राख में तबदील हो चुकी थी। वहीं ग्रामीण नीरज की चार एकड़, धर्मेंद्र की चार एकड़ गांव जाखौली निवासी अकबर की दो एकड़ गेंहू की फसल आग के ताडंव की चपेट में आ गई। ग्रामीणों ने जिला प्रशासन व सरकार से मुआवजे की मांग की हैं। ताकि उनके परिवार का पालन-पोषण ढ़ग से हो सके।


Next Story