Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

रेल यात्रियों को रेवाड़ी-नारनौल-जयपुर ट्रैक पर मिल सकता ट्रेन का तोहफा

उत्तर-पश्चिम जयपुर रेल मंडल की ओर से डेमू ट्रेन का इस ट्रैक पर ट्रायल लिया गया है। ऐसे में उम्मीद की जा रही है कि निकट भविष्य में इस नई सवारी गाड़ी की सुविधा मिल जाएगी। इस नई रेलगाड़ी के चलने से इलाके के रेल यात्रियों को नई सवारी गाड़ी मिल सकेगी, बल्कि इससे रेलगाडि़यों का इस मार्ग से चल रहा टोटा भी खत्म होगा।

रेल यात्रियों को रेवाड़ी-नारनौल-जयपुर ट्रैक पर मिल सकता ट्रेन का तोहफा
X

नारनौल रेलवे स्टेशन व रेलवे स्टेशन अधीक्षक मुनेश भार्गव।

हरिभूमि न्यूज : नारनौल

रेल मंत्रालय शीघ्र ही रेवाड़ी-नारनौल-जयपुर ट्रैक पर डीजल इलेक्ट्रिक मल्टीपल यूनिट (डीईएमयू) ट्रेन का तोहफा दे सकता है। क्योंकि उत्तर-पश्चिम जयपुर रेल मंडल की ओर से डेमू ट्रेन का इस ट्रैक पर ट्रायल लिया गया है। ऐसे में उम्मीद की जा रही है कि निकट भविष्य में इस नई सवारी गाड़ी की सुविधा मिल जाएगी। इस नई रेलगाड़ी के चलने से इलाके के रेल यात्रियों को नई सवारी गाड़ी मिल सकेगी, बल्कि इससे रेलगाडि़यों का इस मार्ग से चल रहा टोटा भी खत्म होगा, क्योंकि इस रूट पर वर्तमान में सवारी गाड़ियों की बेहद कमी महसूस की जा रही है।

उल्लेखनीय है कि रेवाड़ी-जयपुर के बीच नारनौल रेलवे स्टेशन महत्वपूर्ण स्टेशनों में स्थान रखता है और पूर्व में जब हालात सामान्य थे, यहां से कम से कम एक लाख रुपए की टिकटों की रोजाना की बिक्री होती थी, लेकिन जब कोरोना कॉल में लॉकडाउन लगा, तब यहां से गुजरने वाली रेलों को बंद कर दिया गया था। मगर अब कोरोना से देश बाहर निकल रहा है और यह क्षेत्र भी कोरोना पर तेजी से जीत हासिल करता नजर आ रहा है। धीरे-धीरे बदलते हालातों में अधिकांश ट्रेनों का संचालन भी शुरू होने लगा है, लेकिन नारनौल ट्रैक पर सवारी गाडि़यों का आवागमन उस गति से नहीं हो रहा, जिसका इंतजार किया जा रहा है। किंतु इसी बीच अच्छी खबर भी आई है कि रेल मंडल जयपुर की ओर से डेमू ट्रेन का ट्रायल लिया गया है। यह ट्रायल जयपुर-नारनौल-रेवाड़ी में मध्य लिया गया है। गत दिवस एक डेमू जयपुर-रेवाड़ी के बीच चलाई गई, जिसने आने-जाने का फेरा लगाया। अब इस ट्रेन को नियमित रूप से चलाने की कवायद की जा रही है और लोगों को भी सवारी गाडि़यों का बेसब्री से इंतजार है।

डेमू ट्रेन अन्य सामान्य गाड़ियों की तरह ही होती है, लेकिन इसमें बिजली एवं डीजल के इंजन लगे होते हैं और जरूरत अनुसार किसी भी इंजन से काम लिया जा सकता है। यह ट्रेन भी पैसेंजर गाड़ियों की तरह ही सवारियां ढोने का काम करती है। किराया भी सामान्य गाड़ी की भांति ही होता है। मगर फिलहाल इस ट्रेन को ट्रायल से बाहर निकालकर नियमित रूप से चलाने की आवश्यकता महसूस की जा रही है।

फिलहाल चल रहीं महज दो ही ट्रेन

वर्तमान में नारनौल स्टेशन से महज दो सवारी गाडि़यां चलाई जा रही हैं, जिनमें एक चेतक एक्सप्रेस है, जो सराय रोहिल्ला से उदयपुर सिटी को जाती है। दूसरी ट्रेन जनशताब्दी एक्सप्रेस है, जो दिल्ली से अजमेर के बीच चलती है। मगर इन दोनों ही ट्रेनों का लोगों का बड़ा लाभ नहीं मिल पा रहा है। जनशताब्दी एक्सप्रेस एडवांस बुकिंग के तौर पर पहले ही फुल होकर चलती है और चेतक एक्सप्रेस रात को 2:20 बजे नारनौल से दिल्ली जाती है। चेतक जब दिल्ली सराय रोहिल्ला से चलती है तो नारनौल आने वाले यात्रियों का इसका लाभ जरूर मिलता है। अन्यथा 20-25 यात्री भी दोनों ट्रेनों को नारनौल से नहीं मिल पा रहे हैं।

पैसेंजर गाड़ियों का चलाने की उठ रही मांग

नारनौल एवं आसपास को सैनिक बाहुल्य क्षेत्र माना जाता है और यहां की जनता ट्रेनों में सफर करने को खूब तवज्जो भी देती है। मगर सवारी गाडि़यां नहीं होने से लोगों को मायूसी हो रही है। वर्तमान में कोई भी पैसेंजर ट्रेन नहीं चलना उन पर भारी पड़ रहा है। दैनिक यात्रियों के लिए तो बड़ी कठिनाई का सबब बना हुआ है। नगर के जागरूक लोगों उमाकांत छक्कड़, मा. संजय शर्मा, नवीन यादव, रजनीश यादव व मनोज मित्तल आदि ने बताया कि नारनौल ट्रेक पर सवारी गाड़ियों की बेहद कमी है। जब ब्रॉडगेज की बजाए मीटरगेज लाइनें थी, तब छह पैसेंजर गाडि़यां चलती थी। अब एक भी पैसेंजर नहीं चलाई जा रही है। पटरियां बदली और अब बिजली की लाइनें भी हो गई, लेकिन दिन-रात मालगाडि़यां दौड़ाई जा रही हैं। जनता की कोई सुध नहीं ली जा रही और सवारी गाडि़यों का भारी अभाव है और लोग परेशान हैं। नारनौल स्टेशन पर अब खिड़की से ट्रेन आने पर मौके से टिकट नहीं दी जाती, बल्कि एडवांस बुकिंग करानी पड़ती है। नारनौल से चाहे नजदीकी स्टेशन जोरासी या बाछौद ही क्यों न जाना पड़े। टिकट मौके पर नहीं मिलती।

क्या कहते है स्टेशन अधीक्षक

रेलवे स्टेशन की अधीक्षक मुनीश भार्गव ने बताया कि जयपुर से रेवाड़ी के बीच डेमू ट्रेन का ट्रायल लिया गया है। ट्रायल सही प्रकार से हो गया है। मगर अभी उस ट्रेन के नियमित रूप से चलने के हमें कोई आदेश प्राप्त नहीं हुए हैं। जैसे ही सूचना आएगी, अवगत करा दिया जाएगा।

Next Story