Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

Corona : प्राइवेट अस्पतालों को 20 प्रतिशत बैड रिजर्व रखने के निर्देश, हर स्थिति से लड़ने के लिए प्रशासन तैयार

उपायुक्त ने बताया कि प्रोटोकॉल के सही-सही पालन के लिए एमडी शुगरमिल अदिति के नेतृत्व में एक टीम का गठन किया गया है, जिसमें एक डॉक्टर केसीजीएमसी से और एक प्राइवेट अस्पताल से शामिल किए गए है। यह टीम प्राईवेट अस्पतालों में बैडों की उपलब्धता और उनकी स्थिति की जानकारी के साथ-साथ कोविड प्रोटोकॉल को भी सुनश्चिति करवाएगी। इसी प्रकार प्राईवेट अस्पतालों में रेडिसिमिवर दवा के रेट रोजाना बताने होंगे। कोताही मिलने पर एक्शन लिया जाएगा। टीम अपने भ्रमण में अस्पतालों में आईसीयू को भी देखेगी।

Corona : प्राइवेट अस्पतालों को 20 प्रतिशत बैड रिजर्व रखने के निर्देश, हर स्थिति से लड़ने के लिए प्रशासन तैयार
X

उपायुक्त एवं जिला आपदा प्रबंधन प्राधिकरण के अध्यक्ष निशांत कुमार यादव

करनाल : कोविड केसों (Covid Cases) में कई दिनों से हो रही वृद्धि को देखते उपायुक्त एवं जिला आपदा प्रबंधन प्राधिकरण के अध्यक्ष निशांत कुमार यादव ने करनाल के निजी अस्पताल संचालकों को स्थिति से लड़ने के लिए तैयार रहने को कहा।

आईएमए से जुड़े डॉक्टरों के साथ लघु सचिवालय में एक मीटिंग कर उन्होंने बताया कि प्रतिदिन 350 से अधिक कोविड पॉजिटव और 2500 के करीब एक्टिव मामलों को देखते अगले कुछ दिनों में अलार्मिंग सिचुएशन यानि खतरे की स्थिति बन सकती है, ऐसे में सभी निजी अस्पतालों को अपनी उपलब्धता के अनुसार 20 प्रतिशत बैड रिजर्व रखने होंगे। हालांकि उन्होंने कहा कि गत वर्ष कोविड से निपटने में आईएमए की तरफ से जो सहयोग मिला वह काबिले तारीफ है, उम्मीद है कि अब भी इसी तरह का सहयोग मिलेगा।

उन्होंने बताया कि पेंडेमिक के गत वर्ष की तुलना में इस वर्ष अधिकतर लोग कोविड के फैलते प्रसार से बेखबर होकर दिनचर्या गुजार रहे हैं, अर्थात पिछले साल की तुलना में लोगों में जागरूकता की कमी ओर गम्भीरता वाली बात नहीं है। दूसरी ओर तरावड़ी और बसंत विहार जैसे ईलाकों से भी केसो की वृद्धि का कारण बना, लेकिन अब समय आ गया है कि कोविड से बचाव के लिए सावधानी और सभी नियमों का पालन अनिवार्य हो गया है।उपायुक्त ने कहा कि कुछ प्राइवेट अस्पतालों से कोविड के लिए जारी प्रोटोकॉल को फोलो ना करने की शिकायतें सुनने में आई थी, जिसमें यह भी जानकारी मिली थी कि कोविड के लक्षण वाले रोगी का सामान्य रोगियों के साथ इलाज किया जा रहा है, जबकि उसे पृथक रखा जाना चाहिए। को

उपायुक्त ने बताया कि प्रोटोकॉल के सही-सही पालन के लिए एमडी शुगरमिल अदिति के नेतृत्व में एक टीम का गठन किया गया है, जिसमें एक डॉक्टर केसीजीएमसी से और एक प्राइवेट अस्पताल से शामिल किए गए है। यह टीम प्राइवेट अस्पतालों में बैडों की उपलब्धता और उनकी स्थिति की जानकारी के साथ-साथ कोविड प्रोटोकॉल को भी सुनिश्चित करवाएगी। इसी प्रकार प्राइवेट अस्पतालों में रेडिसिमिवर दवा के रेट रोजाना बताने होंगे। कोताही मिलने पर एक्शन लिया जाएगा। टीम अपने भ्रमण में अस्पतालों में आईसीयू को भी देखेगी।

पोर्टल पर देनी होगी जानकारी : उपायुक्त ने डॉक्टरों को बताया कि केसीजीएमसी की ओर से एक पोर्टल जारी किया गया था, जिसमें रोजाना के उपलब्ध बैड व रोगियों की संख्या अपडेट की जाती है। अब प्राइवेट बड़े-बड़े अस्पताल भी इसी पोर्टल पर अपना ऑनलाइन स्टेट्स देंगे, ताकि रोगी व बैडों की संख्या की जानकारी मिलती रहे।

सोशल मीडिया से तथ्यों पर आधारित रिपोर्ट प्रसारित करने की अपील

उपायुक्त ने मीटिंग के माध्यम से सोशल मीडिया से जुड़े पत्रकारों से अपील की कि कोविड से जुड़ी जानकारी सही-सही व तथ्यों के आधार पर दें। ऐसी रिपोर्ट जनता के समक्ष ना दिखाई जाए, जिससे सनसनी फैले और कोविड से लड़ने के लिए अस्पतालों व डॉक्टरों की व्यवस्था पर विपरीत असर पड़े।

Next Story