Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

हरियाणा के डाॅक्टरों को यहां से दिया जाएगा प्रशिक्षण, मंत्री विज के अनुरोध पर मिली हरी झंडी

गृह एवं सेहत मंत्री चाहते हैं कि हरियाणा में काम करने वाले डाक्टरों को पीजीआई चंडीगढ़ के वरिष्ठ डाक्टरों के अनुभव का लाभ मिले। इसके लिए विज ने पीजीआई चंडीगढ़ के डायरेक्टर से हरी झंडी हो जाने के बाद में हरियाणा के चिकित्सकों को खास टिप्स दिलाने का कार्यक्रम तैयार कर लिया है।

हरियाणा के डाॅक्टरों को यहां से दिया जाएगा प्रशिक्षण, मंत्री विज के अनुरोध पर मिली हरी झंडी
X

योगेंद्र शर्मा. चंडीगढ़

हरियाणा स्वास्थ्य विभाग के तहत विभिन्न जिला अस्पतालों और बाकी अस्पतालों में सेवाएं देने वाले चिकित्सकों को जल्द ही पीजीआई चंडीगढ़ के वरिष्ठ डाक्टरों, मेडिकल कॉलेज के प्रोफेसर्स के अनुभव का लाभ होगा। ऑक्सीजन का स्तर कम होने और आफ्टर कोविड इफेक्ट झेल रहे हरियाणा के गृह एवं सेहत मंत्री चाहते हैं कि हरियाणा में काम करने वाले डाक्टरों को पीजीआई चंडीगढ़ के वरिष्ठ डाक्टरों के अनुभव का लाभ मिले। इसके लिए विज ने पीजीआई चंडीगढ़ के डायरेक्टर से हरी झंडी हो जाने के बाद में हरियाणा के चिकित्सकों को खास टिप्स दिलाने का कार्यक्रम तैयार कर लिया है।

अहम बात यह है कि पीजीआई में आक्सीजन का स्तर कम हो जाने और कईं स्वास्थ्य संबंधी तकलीफ झेल रहे मंत्री विज को प्रदेश के लोगों को बेहतर से बेहतर स्वास्थ्य सुविधाएं देने की चिंता है। इस क्रम में उन्होंने चंडीगढ़ पीजीआई के वरिष्ठ डाक्टरों के अनुभव और आए दिन हो रहे रिफाम, नई रिसर्च का फायदा हरियाणा के डाक्टरों के साथ में साझा करने का अनुरोध पीजीआई चंडीगढ़ के डाक्टरों से किया है। जिस पर सभी ने अपनी सहमति दे दी है।

अब इसके होते ही सेहत और गृह मंत्री अनिल विज ने एक पत्र विभाग के एसीएस के साथ-साथ डीजी के माध्यम से सभी जिलों में सीएमओ, पीएमओ से खास ट्रेनिंग कार्यक्रम तैयार करने को कहा है। इस तरह से अगले माह पीजीआई डाक्टरों के साथ में हरियाणा के डाक्टरों के कार्यक्रम तैयार हो जाएंगे। हर जिले में अलग अलग तारीखों पर अलग अलग डॉक्टर अपने अनुभव और केसों को लेकर चुनौतियों, उनके उपचार को लेकर उठाए जा रहे कदमों के बारे में अनुभव सांझा करेंगे।

विज केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री से भी मिलेंगे

पीजीआई में उपचार करा रहे प्रदेश के वरिष्ठ नेता और मंत्री ने इतना ही नहीं बल्कि चंडीगढ़ पीजीआई बिल्डिंग को लेकर चिंता जाहिर करते हुए इस बारे में केंद्रीय मंत्री को पत्र लिख दिया है। विज ने शुक्रवार को हरिभूमि के पूछे जाने पर साफ कर दिया केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री से मुलाकात करेंगे और यह मामला उठाएंगे ताकि पीजीआई को एक बेहतर और एडवांस तकनीकी से युक्त भवन मिल सके। विज ने केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री मनसुख को गत दिवस ही पत्र लिखकर अवगत कराया है कि पीजीआईएमईआर, चंडीगढ़ उत्तर भारत के निवासियों के लिए एक बेहतरीन स्वास्थ्य सेवाओं को देने वाला संस्थान है और इसके पुराने भवन को पुनर्निर्माण और नवीनीकरण करने के लिए वह कुछ सुझाव उनसे मिलकर देना चाहते हैं। मंत्री को लिखे पत्र में उन्होंने कहा है कि वे बड़े जनहित के मामले में ध्यान दिलाना चाहते हैं।

पीजीआई चंडीगढ़ उत्तरी क्षेत्र का एक प्रमुख स्वास्थ्य संस्थान है और चंडीगढ़ में हरियाणा, पंजाब, हिमाचल प्रदेश राजस्थान, पश्चिमी उत्तर प्रदेश और जम्मू कश्मीर जैसे विभिन्न राज्यों से बड़ी संख्या में मरीज इलाज के लिए आते हैं। यहां सभी हाईटेक और मल्टी सुविधाएं उपलब्ध हैं और आम जनता को बेहतर स्वास्थ्य सुविधाएं प्रदान करने के लिए समय की आवश्यकता/मांग के अनुसार नए भवनों का निर्माण भी किया जा रहा है। लेकिन, यह देखा गया है कि उस समय के अच्छे डिजाइन/संरचना के साथ 1950 में निर्मित पीजीआई चंडीगढ़ की पुरानी इमारत के साथ कुछ समस्याएं हैं। स्वास्थ्य सुविधाएं प्रदान करने के लिए उक्त भवन का नवीनीकरण या पुनर्निर्माण करने की आवश्यकता है।

डाक्टरों ने अनुरोध स्वीकार कर लिया, जल्द होगी शुरुआत

हरियाणा के स्वास्थ्य एवं गृहमंत्री अनिल विज का कहना है कि हमने इस संबंध में पीजीआई के डायरेक्टर से अनुरोध किया था, जिन्होंने वरिष्ठ डाक्टरों से चर्चा के बाद हरी झंडी दे दी है। जिसके बाद में हमने राज्य स्वास्थ्य विभाग के आला अफसरों और हर जिले में सीएमओ को कार्यक्रम तैयार करने के लिए कहा है।

Next Story