Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

ट्रांसफर के खिलाफ डिप्टी लेबर कमिश्नर ने ली हाईकोर्ट की शरण तो सरकार ने चला दिया हंटर

डिप्टी लेबर कमिश्नर सुधा चौधरी (Sudha Chaudhary) कई वर्षों से फरीदाबाद में ही तैनात रही हैं। विभागीय सूत्रों का कहना है कि पिछले दिनों राज्य सरकार ने इनका ट्रांसफर कर दिया था। दूसरे जिले में जाने के बजाय सुधा चौधरी हाईकोर्ट (High Court) जाकर स्टे ऑर्डर ले कर आई और फरीदाबाद में ही डटी रही।

ट्रांसफर के खिलाफ डिप्टी लेबर कमिश्नर ने ली हाईकोर्ट की शरण तो सरकार ने चला दिया हंटर
X

फरीदाबाद। राज्य सरकार के आदेश का पालन न करके कोर्ट से स्टे ऑर्डर लाकर फरीदाबाद (Faridabad) में ही डटे रहना डिप्टी लेबर कमिश्नर सुधा चौधरी को महंगा पड़ गया। सरकार ने उनके रिटायरमेंट के तीन महीने पहले ही सस्पेंड कर दिया है।

कहा तो ये भी जा रहा है कि कुछ उद्यमियों ने कोरोना काल में अनलॉक लागू होने के बाद विभाग के अधिकारियों द्वारा कंपनियों में जाकर वसूली करने की शिकायत राज्य सरकार से की थी। इसकी कितनी सच्चाई है ये तो जांच का विषय है।

बता दें कि डिप्टी लेबर कमिश्नर सुधा चौधरी कई वर्षों से फरीदाबाद में ही तैनात रही हैं। विभागीय सूत्रों का कहना है कि पिछले दिनों राज्य सरकार ने इनका ट्रांसफर

(Transfer) कर दिया था। दूसरे जिले में जाने के बजाय सुधा चौधरी हाईकोर्ट जाकर स्टे ऑर्डर ले कर आई और फरीदाबाद में ही डटी रही।

डिप्टी लेबर कमिश्नर के इस कदम से सरकार खासी नाराज थी। सूत्रों ने ये भी बताया कि कोरोना कॉल में जब अनलॉक लागू होने के बाद कंपनियां खुलनी शुरू हुई तो श्रम विभाग के अधिकारी वहां पहुंचकर एसपीओ लागू न करने के नाम पर प्रताडि़त किया। सुधा चौधरी का अगले वर्ष जनवरी 2021 में रिटायरमेंट भी है।

Next Story