Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

मां शाकंभरी देवी का मंदिर बनाने को लेकर पुजारियों और राजपूत समाज में विवाद, जानें पूरा मामला

मंदिर परिसर में तनाव का माहौल होने पर मंगलवार को पुलिस मौके पर पहुंची और मामले को शांत करवाया। दोनों पक्षों को अटेली थाने में बुधवार को अपना पक्ष रखने के लिए कहा गया है।

मां शाकंभरी देवी का मंदिर बनाने को लेकर पुजारियों और राजपूत समाज में विवाद, जानें पूरा मामला
X

 माता महासर मंदिर में उपस्थित लोग एवं पुलिस।

हरिभूमि न्यूज : मंडी अटेली

महासर वाली माता मंदिर में गांव महासर व खारीवाड़ा के राजपूत समाज की ओर से अपनी कुलदेवी मां शाकंभरी देवी का स्थान बनाए जाने को लेकर पुजारी व राजपूत समाज आमने-सामने हो गए हैं। मंदिर में माता का स्थान निर्माण का कार्य पुजारियों ने रूकवा दिया है। मंदिर परिसर में तनाव का माहौल होने पर मंगलवार को पुलिस मौके पर पहुंची और मामले को शांत करवाया। डीएसपी राजीव कुमार व थाना प्रभारी बिरेंद्र सिंह ने भी मौका मुआयना किया। दोनों पक्षों को अटेली थाने में बुधवार को अपना पक्ष रखने के लिए कहा गया है।

गांव खारीवाड़ा व महासर के राजपूत अजय सिंह, नंबरदार भंवर सिंह, नंबरदार अतर सिंह, मनोज, रूपेंद्र, सुरेश सिंह, नरपाल, हरकेश व बेद सरपंच आदि का कहना है कि पुराने मंदिर में हमारे बच्चों के जडूले उतारने के लिए मां शाकंभरी का स्थान बना हुआ है। यह हमारी कुलदेवी है तथा इस मंदिर के साथ पहले भी इस स्थान पर माता की चबूतरी बनाई हुई थी। नए मंदिर के निर्माण के समय इसे तोड़ दिया गया। अभी हम लोग उसको एक छोटे रूप में बनाना चाहते हैं, ताकि राजपूत समाज की श्रद्धा बनी रहे। किंतु पुजारी लोग यहां बनाने नहीं दे रहे और लोगों को बार-बार पुलिस के पास जाना पड़ रहा है। पुलिस व लोगों को परेशान कर रहे हैं। फिर भी लोगाें का कहना है कि हम जो भी काम करेंगे कानून के दायरे में करंगे, लेकिन पुजारियों का अतिक्रमण बढ़ता ही जा रहा है और वह एक धार्मिक व सामाजिक कार्य में बार-बार बाधा डाल रहे हैं।

दूसरी ओर पुजारीगण प्रवीण शास्त्री, संजय शास्त्री, श्रवण, पुष्कर, लालचंद व सुरेंद्र आदि ने बताया कि इनमें कुछ लोग माता महासर के स्थान पर कब्जे की नीयत से यह स्थान बनाकर श्रद्धालुओं की भावना को ठेस पहुंचा रहे हैं। मां शाकंभरी देवी का कोई स्थान यहां नहीं रहा है। इस स्थान पर केवल महासर माता का स्थान है। अगर इन लोगोंं को मां शाकंभरी देवी का स्थान बनाना है तो दूसरी जगह बना सकते हैं।

Next Story