Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

ब्लैकमेल के नए- नए तरीके : खूबसूरत चेहरे और अच्छे नाम वाली फेसबुक प्रोफाइल से फ्रेंड रिक्वेस्ट से रहें सावधान

साइबर ठगों द्वारा सोशल मीडिया पर लोगों को फेसबुक, मैसेंजर या अन्य सोशल मीडिया प्लेटफार्म के जरिये साईबर अपराधो को अजांम दिया जा रहा है।कैथल पुलिस द्वारा इस प्रकार के फ्रॉड से बचने के लिए एडवाइजरी जारी की गई है।

ब्लैकमेल के नए- नए तरीके : खूबसूरत चेहरे और अच्छे नाम वाली फेसबुक प्रोफाइल से फ्रेंड रिक्वेस्ट से रहें सावधान
X

कैथल के पुलिस अधीक्षक लोकेंद्र सिंह

कैथल : प्राय: देखने में आ रहा है कि आजकल साइबर अपराधी फेसबुक, मैसेंजर या अन्य सोशल मीडिया प्लेटफार्म के जरिये नये नये तरिके अपना कर ब्लैकमेल कर रहे है। कैथल पुलिस द्वारा इस प्रकार के फ्रॉड से बचने के लिए एडवाइजरी जारी की गई है।

कैथल पुलिस अधीक्षक लोकेंद्र सिंह ने बताया कि तकनीक के इस युग में लगभग हर व्यक्ति कंप्यूटर अथवा मोबाइल से जुड़ा हुआ है। ऐसे में साइबर अपराधी भी अपराध करने के नये नये तरीके अपनाकर आए दिन लोगो को साइबर ठगी का शिकार कर रहे हैं। साइबर ठगों द्वारा सोशल मीडिया पर लोगों को फेसबुक, मैसेंजर या अन्य सोशल मीडिया प्लेटफार्म के जरिये साईबर अपराधो को अजांम दिया जा रहा है।

एसपी ने बताया कि हैकर खूबसुरत चेहरे और अच्छे नाम वाली फर्जी फेसबुक अकांउट बनाकर फेसबुक प्रोफाइल से फ्रेंड रिक्वेस्ट भेजते है। ज्यादातर ऐसे फर्जी फेसबुक अकांउट लड़कियों के नाम से होते है। चैटिंग के दौरान साइबर अपराधी पीड़ित को कई तरह के वीडियो चैट एप्लिकेशन डाउनलोड करने की सलाह देते हैं। कई चैट के बाद साइबर अपराधी पीड़ित को वीडियो कॉलिंग के लिए मना लेते है और साइबर अपराधी पीड़ित के साथ न्यूड वीडियो काल कर लेता है। लाइव वीडियो चैट साइबर अपराधियों द्वारा महिला के रूप में प्रस्तुत की जाती है। साइबर अपराधी पीड़ित को भी न्यूड होने के लिए बहकाता है। पीड़ित व्यक्ति उसकी बातों में आकर न्यूड हो जाता है और फिर चल रहे विडियो कॉल का स्क्रीनशॉट या स्क्रीन रिकॉर्डिंग सहेज लिया जाता है।

एसपी ने बताया कि इसके बाद ब्लैकमेलिंग का खेल शुरु होता है। साइबर अपराधी सेव न्युड विडियो को अश्लील वेबसाइटों, यूट्यूब आदि पर अपलोड करने या उसके परिचितों को भेज देने की धमकी देकर पैसों की मांग करता है। व्यक्ति बदनामी के डर से पैसे भेजता है और ब्लैकमेलिंग जबरन वसूली का शिकार हो जाता है। एसपी ने कहा कि इंटरनेट मीडिया के दौर में अगर थोडी बहुत सावधानी रखी जाए तो धोखाधडी या ब्लैकमेल होने से बचा जा सकता है। अनजान नंबर से आने वाले वीडियो काल ना उठांए, अगर काल उठाना ही पडे तो सबसे पहले अपने मोबाइल के फ्रंट कैमरे पर अपनी उगंली रख ले। अगर कोई वीडियो बना भी ले तो ब्लैकमेल होकर उसे रुपए ना दे बल्कि उसकी जानकारी पुलिस थाने मे दें। सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर अनजान लोगों से दोस्ती करने से बचें। डिजिटल दुनिया में सतर्क सावधान रहकर अपने आप को धोखाधडी ब्लैकमेलिंग से बचाया जा सकता है।

Next Story