Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

स्पेशल रिपोर्ट: धरनास्थल पर विरोध के अजब-गजब तरीके, जान कर होगी हैरानी

राजधानी में धरनास्थल पर हड़तालियों ने अपनाए विरोध के अजब-गजब तरीके एक पंडाल में लोगों ने नगाड़ा बजाया। दूसरे पंडाल में गोसेवकों ने भजन गाए। वहीं सर्व विभागीय दैनिक वेतनभोगी कर्मचारियों ने मुंडन कराकर विरोध प्रदर्शन किया। पढ़िए स्पेशल रिपोर्ट..

स्पेशल रिपोर्ट: धरनास्थल पर विरोध के अजब-गजब तरीके, जान कर होगी हैरानी
X

रायपुर: राजधानी के बूढ़ापारा स्थित धरनास्थल पर आंगनबाड़ी कार्यकर्ता, सहायिकाओं ने जमकर नगाड़ा बजाया। 6 सूत्रीय मांगों को लेकर सरकार पर उदासीन रवैया अपनाने का आरोप लगाते हुए कार्यकर्ताओं ने शासन को कुंभकर्णी निद्रा से जगाने नगाड़ा बजाकर विरोध जताया। महिलाओं को नगाड़ा बजाते देखकर लोग आंदोलन को देखने खासे उत्सुक रहे। दूसरे पंडाल में छत्तीसगढ़ के विभिन्न जिलों से आए प्रशिक्षित गोसेवकों ने अपनी लंबित मांगों के ध्यान आकर्षण कराने भजन गाए। सर्व विभागीय दैनिक वेतनभोगी कर्मचारी संघ के पंडाल में धरना-प्रदर्शन कर रहे कर्मचारियों ने मुंंडन कराकर विरोध प्रदर्शन किया।

दैनिक वेतनभोगी कर्मचारी संघ ने कराया मुंडन


सर्वविभागीय दैनिक वेतनभोगी कर्मचारी संघ के आव्हान पर रविवार को विभिन्न विभागों के दैनिक वेतनभोगी कर्मचारियों ने बूढ़ापारा धरनास्थल पर जमकर नारेबाजी की। शासन-प्रशासन का ध्यान आकर्षित कराने पंडाल स्थल पर कर्मचारियों ने मुंडन कराकर विरोध जताया। कर्मचारियों की मांग का समर्थन करने प्रदेश तृतीय वर्ग शासकीय कर्मचारी संघ के प्रांताध्यक्ष विजय झा मंच पर पहुंचे। उन्होंने सर्वविभागीय दैनिक वेतनभोगी कर्मचारियों के समर्थन में सभा को संबोधित किया।

प्रशिक्षित गोसेवकों ने किया भजन-कीर्तन


अविभाजित मध्यप्रदेश के समय पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह द्वारा ग्रामीण क्षेत्रों में पशुपालन विभाग के माध्यम प्रदेश के 4 हजार गाेसेवकों को प्रशिक्षण देकर काम पर रखा गया। 20 साल पहले इन्हें प्रति मवेशी टीका लगाने पर 2 रुपए और कृत्रिम गर्भाधान पर रुपए सेवा शुल्क देने का सिस्टम बना। जो अब तक उसी रेट पर लागू है। नाराज गोसेवकों ने सम्मानजनक मेहनताने की मांग करते हुए प्रदर्शन किया। साथ ही पशुपालन विभाग में संविलियन करने की मांग की। एक सूत्रीय मांग को लेकर बेमियादी धरने पर बैठे प्रदेशभर के प्रशिक्षित गोसेवकों ने भजन-कीर्तन कर शासन का ध्यान आकर्षित कराया।

आंगनबाड़ी कार्यकर्ता, सहायिकाओं ने बजाया नगाड़ा


छत्तीसगढ़ के विभिन्न जिलों से राजधानी पहुंचीं आंगनबाड़ी कार्यकर्ता, सहायिकाओं ने रविवार को धरनास्थल पर नगाड़ा बजाकर विरोध का अनूठा तरीका अपनाया। लाल रंग की साड़ी में धरनास्थल पर बड़ी संख्या में महिलाएं 6 सूत्रीय मांगों को लेकर राजधानी में डेरा डाले हुए हैं। उनका कहना है, जब तक उनकी मांगें पूरी नहीं होंगी, तब तक धरना-प्रदर्शन जारी रहेगा। आंगनबाड़ी कार्यकर्ता, सहायिकाओं ने बताया, अपनी लंबित मांग को लेेकर उन्होंने विभागीय मंत्री से लेकर निर्वाचित जनप्रतिनिधियों तक गुहार लगाई, पर उनकी मांगों को लेकर सरकार गंभीर नहीं है। पंडाल में प्रदर्शन कर रही कार्यकर्ता सहायिकाओं की बड़ी संख्या में मौजूदगी रविवार को देखी गई।

Next Story