Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

SPECIAL REPORT- तीन साल में 249 को मिली भारत की नागरिकता, अधिकांश सिंध से आए

छत्तीसगढ़ में रहकर भारत की नागरिकता पाने वाले पाकिस्तान के बलूचिस्तान और सिंध प्रांत के हैं शामिल, नागरिकता पाने वालों में अधिकांश सिंधी समाज के हैं। एक भी मुस्लिम को नागरिकता नहीं दी गई और न ही मुस्लिम समाज द्वारा आवेदन किया गया। सभी नागरिकों को कलेक्टर रायपुर ने नागरिकता प्रमाण पत्र जारी किया है। पढ़िए पूरी ख़बर...

SPECIAL REPORT- तीन साल में 249 को मिली भारत की नागरिकता, अधिकांश सिंध से आए
X

रायपुर: छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर में पाकिस्तान के सिंध प्रांत से आकर निवास करने वालों को नागरिकता प्रमाण पत्र देने का सिलसिला जारी है। बीते तीन सालों में करीब 249 लोगों को भारत की नागरिकता दी गई है। रायपुर की नागरिकता पाने वाले अधिकांश लोग पाकिस्तान के सिंध और बलूचिस्तान राज्य से आए थे और करीब दशकभर से अधिक समय से यहां निवास कर रहे थे। नागरिकता पाने के आवेदन पर इंटेलीजेंस ब्यूरो भारत सरकार और छग पुलिस की रिपोर्ट के आधार पर उन्हें नागरिकता प्रमाण पत्र दिया गया। यही नहीं, 60 और लोग भी नागरिकता पाने की कतार में खड़े हैं। उनके आवेदन की जांच प्रक्रिया चल रही है। नागरिकता पाने वालों में अधिकांश सिंधी समाज के हैं। सबसे अहम है, एक भी मुस्लिम को नागरिकता नहीं दी गई और न ही मुस्लिम समाज द्वारा आवेदन किया गया था। कलेक्टर रायपुर द्वारा इन सभी नागरिकों को नागरिकता प्रमाण पत्र दिया गया है।

इतने को मिली भारत की नागरिकता

जानकारी के मुताबिक साल 2019 में करीब 110, साल 2020 में 50 और साल 2021 में 89 पाकिस्तानी नागरिकों को भारत की नागरिकता दी गई है। नागरिकता पाने वालों में अधिकांश सिंधी समाज के हैं। एक भी मुस्लिम को नागरिकता नहीं दी गई और न ही मुस्लिम समाज द्वारा आवेदन किया गया था।

ऐसे मिलती है नागरिकता

अफसरों के मुताबिक भारत की नागरिकता लेने के लिए व्यक्ति को गृह मंत्रालय भारत सरकार की वेबसाइट पर ऑनलाइन आवेदन करना होता है। इसमें आवेदक को नाम, पता, परिवार, क्रिमिनल अफेंस समेत अन्य डिटेल देनी होती है। आवेदन सबमिट करने के बाद उसकी एक प्रति कलेक्टोरेट दफ्तर में जमा करनी होती है।

रिपोर्ट के बाद मिलती है नागरिकता

जानकारी के मुताबिक नागरिकता के आवेदन पर इंटेलीजेंस ब्यूरो भारत सरकार द्वारा आवेदक का पता, पासपोर्ट समेत अन्य जांच की जाती है। साथ ही संबंधित राज्य के जिले की लोकल पुलिस द्वारा जांच की जाती है। आईबी और एसपी की संयुक्त रिपोर्ट कलेक्टर को मिलती है, जिसके बाद कलेक्टर द्वारा नागरिकता प्रमाण पत्र जारी किया जाता है।

रजिस्ट्रेशन के माध्यम से भारत की नागरिकता पाने शर्तें

  • भारतीय मूल का ऐसा व्यक्ति, जो कम से कम 7 वर्षों से भारत में निवास कर रहा
  • हो, वह रजिस्ट्रेशन के माध्यम से नागरिकता प्राप्त कर सकता है।
  • एक ऐसा व्यक्ति, जो भारतीय मूल का है, परन्तु अविभाजित भारत के अतिरिक्त
  • किसी दूसरे देश में निवास कर रहा है।
  • एक ऐसा व्यक्ति, जिसका भारतीय नागरिक से विवाह हुआ हो और रजिस्ट्रेशन के लिए आवेदन करने से पहले वह कम से कम 7 वर्षों से भारत में निवास कर रहा हो।

249 को दी गई नागरिकता

तीन साल में 249 लोगों को भारत की नागरिकता दी गई है। इनमें अधिकांश पाकिस्तान के सिंध राज्य से रायपुर आने वाले शामिल हैं।

- एनआर साहू, एडीएम, रायपुर

Next Story