Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

अपनी मौत की खबर को झुठलाते हुए तेंदुए की वापसी, ग्रामीण और फॉरेस्ट अमला रतजगा को मजबूर

अपनी मौत की खबर को झुठलाते हुए तेंदुए की वापसी, ग्रामीण और फॉरेस्ट अमला रतजगा को मजबूर
X

उच्च अधिकारियों को इस बात की जानकारी दे दी गयी थी, जिसके बाद अधिकारियों ने रात में बेलगहना और कोटा क्षेत्र का दौरा किया। पढ़िए पूरी खबर-

कोटा (बिलासपुर)। पिछले एक माह से वाईल्ड एनिमल लेपर्ड ने कोटा के घोंघा डेम से लेकर कार्पोरेशन डिपो और फौजी ढाबे के आगे के एरिया में अपना दबदबा बनाए रखा है। इस बीच कुछ दिन तेंदुवा शांत रहा तो लोगों ने अफवाह उड़ा दिया कि तेंदुवा या तो मर गया है या फिर यहां से चला गया है।

लेकिन 11 दिसम्बर को शाम छह बजे तेंदुवे की एक फोटो फिर से फौजी ढाबे के क्षेत्र में लगे ट्रैप कैमरे में कैद हो गई। फोटो के मिलने के बाद क्षेत्र में उड़ रही अफवाहों पर भी विराम लग गया। पिछले दिनों वन विभाग के उच्च अधिकारियों ने कोटा बेलगहना क्षेत्र का रात में दौरा किया और लोगों को समझाईश दी कि अंधेरे में इस क्षेत्र में ना घुमें। कोटा वन विभाग के एसडीओ ललित दुबे ने बताया कि 11 दिसम्बर को शाम छह बजे तेंदुवे की तस्वीर ट्रैप कैमरे में कैद हुई है। हमने अपने उच्च अधिकारियों को इस बात की जानकारी दे दी थी, जिसके बाद अधिकारियों ने रात में बेलगहना और कोटा क्षेत्र का दौरा किया तथा लोगों को समझाइश दी है। डेम की तरफ जोखिम होने के बाद भी कुछ लोग यहां पिकनिक मनाने से बाज नहीं आ रहे हैं। ऐसे में किसी दिन कोई गंभीर हादसा हो सकता है। 'हरिभूमि' और INH न्यूज़ आप सभी से अपील करता है कि वे डेम के क्षेत्र में शाम के समय जाने से बचें। साथ ही अपनी सुरक्षा के साथ ही वन्य जीवों की सुरक्षा का भी ध्यान रखें।

Next Story