Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

EXCLUSIVE VIDEO: FIR के बाद कालीचरण ने जारी किया वीडियो, कहा- गांधी को गाली दी कोई अफसोस नहीं

एक संत बॉडी-बिल्डिंग के शौक़ीन, राजनीति में पहले हाथ आजमा चुके और अब रायपुर में गांधी को गाली देने के बाद देशभर में बहस की वजह बने कालीचरण का नया बयान सामने आया। इसमें वो कह रहे हैं- गांधी को अपशब्द कहने के लिए कोई पश्चाताप नहीं। मैं गांधी से नफरत करता हूं, मेरे हृदय में गांधी के प्रति तिरस्कार है। पढ़िए पूरी ख़बर..

EXCLUSIVE VIDEO: FIR के बाद कालीचरण ने जारी किया वीडियो, कहा- गांधी को गाली दी कोई अफसोस नहीं
X

FIR के बाद कालीचरण का चैलेंज: कालीचरण ने फिर से गोडसे को महात्मा बताते हुए कहा- गांधी से नफरत, गोडसे को मेरा साष्टांग प्रणाम

रायपुर: रायपुर की धर्म संसद में महात्मा गांधी के लिए मंच से अपशब्द का प्रयोग कर कालीचरण फरार हो गए थे। सोमवार की आधी रात कालीचरण ने इस पूरे मामले को लेकर अपना पक्ष रखते हुए एक जारी किया, जिसमें फिर से लगभग वैसी ही बातों को दोहराया जिसकी वजह से उन पर केस दर्ज किया गया है। लगभग 8 मिनट 51 सेकेंड के इस वीडियो में कालीचरण कई तरह की बातें करते दिख रहे हैं।

धर्म संसद में महात्मा गांधी को गाली देने के बाद देशभर में बहस की वजह बने महाराष्ट्र के संत कालीचरण का नया बयान सामने आया है। नए ज़ारी वीडियो में वो कह रहे हैं- गांधी को अपशब्द कहने के लिए मुझ पर FIR हुई है, मुझे उसका कोई पश्चाताप नहीं है। मैं गांधी से नफरत करता हूं, मेरे हृदय में गांधी के प्रति तिरस्कार है। अपने ताजा बयान में कालीचरण ने गोडसे को महात्मा बताते हुए कहा कि मैं गोडसे को कोटि-कोटि नमस्कार करता हूं उनके चरणों में मेरा साष्टांग प्रणाम है। इस वीडियो को जारी कर कहीं ना कहीं इस संत ने सारे सिस्टम को चैलेंज कर दिया है। कालीचरण के महाराष्ट्र में होने की खबर है। कालीचरण इस वक्त कहां है इसकी जानकारी धर्म संसद के आयोजकों और रायपुर की पुलिस को नहीं है, तलाश जारी है। वीडियो में कालीचरण ने कहा है कि कोई राष्ट्र का पिता नहीं हो सकता। गांधी को देश का बंटवारा करने का जिम्मेदार बताया।

बयान पर अड़े

कालीचरण ने रायपुर पुलिस द्वारा FIR किए जाने के मामले पर कहा है कि मुझे मृत्यु दंड की सजा भी दी जाती है तो वह मौत को स्वीकार करेंगे। रविवार रात रायपुर में कालीचरण पर केस दर्ज किया गया, तब खबर आई थी कि कालीचरण रायपुर छोड़ कर जा चुके हैं। केस दर्ज होने के बाद अब कालीचरण की तलाश रायपुर पुलिस को है।

बॉडी बिल्डिंग और गाने का शौक

कालीचरण का असली नाम अभिनीत धनंजय सराग है। इन्हें बॉडी बिल्डिंग का भी शौक है। उनके पिता दवा की दुकान चलाते हैं। कालीचरण महाराष्ट्र के अकोला में 8वीं क्लास तक ही पढ़े। बचपन में बदमाशियों से परेशान होकर मां-बाप ने उन्हें उनकी मौसी के घर इंदौर भेज दिया था।

राजनीती में भी किस्मत आजमाई, हार गए थे

2017 में अकोला नगर निकाय चुनाव में कालीचरण ने राजनीती में अपनी किस्मत आजमाई थी, लेकिन हार गए थे। उसके बाद इस घटना से कालीचरण एक हाई प्रोफाइल चेहरा बन गए हैं, मुमकिन है की इन्हें अब कोई बड़ा राजनीतिक मंच मिल जाए। देखिये एक्सक्लूसिव वीडियो...


Next Story