Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

लाखों खर्च करने के बाद भी ग्रामीणों को नहीं मिल पा रहा गोठानों का लाभ, दर्जनों गोठानों की स्थिति दयनीय, कहीं-कहीं सिर्फ कोरम पूरा हो रहा...

प्रदेश सरकार की अति महत्वाकांक्षी योजना गोठान योजना. जो ग्रामीण क्षेत्रों के विकास को गति देने नरवा, गरवा, घुरवा, बाड़ी व गायों के संरक्षण और संवर्धन के लिए गौठान निर्माण की योजना लागू की गई. लेकिन प्रशासन के लाख मशक्कत करने के बाद भी ग्रामीणों को इस योजना का लाभ कई स्थानों पर नहीं मिल पा रहा है.

लाखों खर्च करने के बाद भी ग्रामीणों को नहीं मिल पा रहा गोठानों का लाभ, दर्जनों गोठानों की स्थिति दयनीय, कहीं-कहीं सिर्फ कोरम पूरा हो रहा...
X

कमलजीत सिंह, भैयाथान. प्रदेश सरकार की अति महत्वाकांक्षी योजना गोठान योजना. जो ग्रामीण क्षेत्रों के विकास को गति देने नरवा, गरवा, घुरवा, बाड़ी व गायों के संरक्षण और संवर्धन के लिए गौठान निर्माण की योजना लागू की गई. लेकिन प्रशासन के लाख मशक्कत करने के बाद भी ग्रामीणों को इस योजना का लाभ कई स्थानों पर नहीं मिल पा रहा है.

ब्लॉक मुख्यालय भैयाथान अंतर्गत 78 ग्राम पंचायतें हैं, जिसके 56 ग्राम पंचायतों में गौठान संचालित है. जिसमें 16 मॉडल गौठान है, और 35 गौठानो में गोबर खरीदी हो रही है. इन 16 मॉडल गौठानो को छोड़ दें तो शेष 19 गौठानो की स्थिति भी काफी दयनीय है. वहां सिर्फ गोबर खरीदी ही हो पा रही है वो भी सिर्फ कागजों पर संचालित है. इन गौठानो में पशुओं के लिए न चारा है न ही पानी. यही कारण है कि पशुपालक अपने मवेशियों को गौठान लेकर नहीं जाते. जब कभी बड़े अधिकारियों का दौरा गौठानो में होता है तब मवेशियों को लाकर कोरम पूरा किया जाता है. जैसे ही अधिकारी जाते हैं उनके साथ मवेशी भी निकल जाते हैं. जबकि ग्रामीण क्षेत्रों के विकास को गति देने नरवा, गरवा, घुरवा, बाड़ी व गायों के संरक्षण और संवर्धन लिए गोठान निर्माण की योजना लागू की गई है.



हद तो तब हो गई जब विकासखंड मुख्यालय के ग्राम पंचायत भैयाथान और पास के ही मोहली के गौठान आज तक नहीं बन सकी है. जबकि पर्याप्त जगह व संसाधन होने के बावजूद गौठान बनाने में भैयाथान ग्राम पंचायत दिलचस्पी नहीं ले रही हैं तो भला दूर दराज के ग्राम पंचायतों के गौठानो की स्थिति का अंदाजा लगाया जा सकता है. ग्राम पंचायत भैयाथान सहित 21 गौठानों में घेरावा, शेड निर्माण, पानी की समुचित व्यवस्था आज तक नहीं हो सकी है. इसलिए गोबर खरीदी की शुरुआत नहीं हो पाई. जिससे गोधन न्याय योजना का लाभ आज तक ग्रामीणों को नहीं मिल सकी है. ऐसे गौठानो में लाखों रुपए लगाने के बाद भी यह किसी काम के नही है.

मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत सूरजपुर ने कहा कि आपके द्वारा यह मामला संज्ञान में लाया गया है. मैं सभी गौठानो का दौरा कर मल्टी एक्टिविटी सहित निर्माणाधीन गौठानो को तत्काल पूर्ण करा कर समुचित व्यवस्था लागू की जाएगी.

बहरहाल अब देखना होगा कब तक गौठानो की स्थिति सुधरती है. जनपद के अधिकारी कब दिलचस्पी दिखाते हैं. जिससे ग्रामीणों को प्रदेश सरकार के महत्वाकांक्षी योजना का लाभ मिल सके और उनकी आय बढ़ सके.



और पढ़ें
Next Story