Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

बापू के अपमान पर फिर बरसे सीएम बघेल, बोले- नफरत फैलाने वाले समाज के लिए कोढ़, ये कालीचरण नहीं गालीचरण है...

आज कालीचरण जैसे लोग उनको राष्ट्रपिता मानने से इनकार करते हैं. आइंस्टीन ने कहा था कि आने वाली पीढ़ी को विश्वास करना मुश्किल होगा कि गांधी जैसा हाड़ मांस का कोई व्यक्ति इस दुनिया में आया होगा. छत्तीसगढ़ सरकार गांधी के रास्ते पर चल रही है.

बापू के अपमान पर फिर बरसे सीएम बघेल, बोले- नफरत फैलाने वाले समाज के लिए कोढ़, ये कालीचरण नहीं गालीचरण है...
X

रायपुर. बापू के अपमान पर एक बार फिर सीएम बघेल जमकर बरसे. सीएम बघेल ने कहा कि नफरत फ़ैलाने वाले समाज के लिए कोढ़ हैं. ये कालीचरण नहीं गालीचरण है. गांधी हमारे अभियान कार्यक्रम में सीएम बघेल ने संबोधित करते हुए कहा कि छत्तीसगढ़ की धरती पर धर्म संसद का आयोजन हुआ. वहां धार्मिक बातें न कर महात्मा गांधी पर अभद्र टिप्पणी हुई.

कालीचरण को किस उद्देश्य से भेजा गया हमको नहीं पता. कालीचरण अचानक प्रकट हुए और गांधी जी को गाली दी और गोडसे की जय जयकार की. तो क्या आज कल गालीचरण ,भाजपा और आरएसएस के लोग उनसे बड़े हो गए हैं. सुभाष बाबू को कौन नहीं जानता. उनके कांग्रेस से वैचारिक मतभेद थे, लेकिन रंगून के रेडियो संदेश में सुभाष चंद्र बोस ने महात्मा गांधी को राष्ट्रपिता कहा था.

आज कालीचरण जैसे लोग उनको राष्ट्रपिता मानने से इनकार करते हैं. आइंस्टीन ने कहा था कि आने वाली पीढ़ी को विश्वास करना मुश्किल होगा कि गांधी जैसा हाड़ मांस का कोई व्यक्ति इस दुनिया में आया होगा. छत्तीसगढ़ सरकार गांधी के रास्ते पर चल रही है.

गांधी जी के ग्राम सुराज की परिकल्पना को सरकार साकार कर रही है. भाजपा गोडसे के रास्ते पर है. देश के विभाजन की नींव रखने वाले सावरकर थे और हवा देने वाले जिन्ना थे. जिन्ना और सावरकर दोनों नास्तिक थे. एक मुस्लिमों का नेता बन गया दूसरे को हिन्दुओं का नेता बनाया जा रहा है. महात्मा गांधी सच्चे हिन्दू थे.

हमारी परंपरा में सभी शामिल होते हैं. दो दिन का धर्म संसद था. जिसमें धार्मिक बातें होती हैं. हम किसी की आलोचना नहीं करते, सुधार की बात करते हैं. महापुरुषों ने महात्मा गांधी के बारे में क्या कहा वो महत्वपूर्ण है. टैगोर जी के खिलाफ बोलने वाले ये कौन होते हैं.

विवेकानंद ने शिकागो में धर्म संसद में कहा था कि हम विश्व के सभी धर्मों को स्वीकार किया है. हमने सताए हुए को अपने यहां स्थान दिया है. विवेकानंद को विवेकानंद बनाने में छत्तीसगढ़ की माटी का भी अहम योगदान है. नफरत फैलाने वालों से सावधान रहने की जरूरत है. ऐसे लोग समाज के लिए कोढ़ हैं.

कोरोना के संकट के दौर में आर्थिक मदद करने की जरूरत है न कि धर्म को लेकर लड़ाई करने की. ईश्वर से अछूता कोई नहीं. हम सब उसी के अंश हैं. हम अहिंसा के राह पर चलते हैं. गांधी जी ने छत्तीसगढ़ के सुंदरलाल शर्मा को अपना गुरु कहा. गांधी जी ने सबसे बड़ा जो काम किया है वो है श्रम का सम्मान. मेहनत का सम्मान. गांधी किसान और बुनकर तक ही सीमित नहीं रहे, उन्होंने हाथ से मैला ढोने वालों का भी सम्मान किया. जबकि कांग्रेस के अलावा बाकी सभी लोग मेहनतकश लोगों का शोषण करते हैं.

सीएम भूपेश बघेल ने भाजपा और संघ पर भी जमकर निशाना साधा. सीएम बघेल ने कहा कि मेहनतकश लोगों का अपमान करने वाली अगर कोई पार्टी है तो भाजपा है. हिंदुओं की बात करने वाले कौन से भाजपाई हैं. राहुल गांधी ने हिन्दू और हिंदुत्ववादी की जो बात कही वह यही लाइन है. कालीचरण नहीं यह गालीचरण है. मोदी और योगी आज मंदिर के नाम पर जमीनों का सौदा कर रहे हैं. राम नाम जपना पराया माल अपना. भाजपा किसानों, मजदूर, महिलाओं, युवाओं के लिए कुछ नहीं कर सकती. चुनाव के समय बस धर्म की बात करते हैं.

सीएम ने छत्तीसगढ़ की पुलिस को बधाई दी. सीएम ने कहा कि छत्तीसगढ़ पुलिस ने यह काम कर दिखाया. गालीचरण को गिरफ्तार करके 24 घंटो में कोर्ट में पेश कर दिया. यह लोग जो समाज को खंडित कर रहे हैं, उनसे लड़ना है. आज भाजपा मुसलमानों को पाकिस्तान भेजने की बात करते हैं. लेकिन आरएसएस कार्यालय में अखंड भारत का नक्शा लगाए बैठे हैं. जब अखंड भारत की बात करते हैं तो इनको बाहर क्यों भेजना चाहते हैं. मतलब जनता को बेवकूफ बना रहे हैं.



Next Story