Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

सिटी बस परिचालकों ने दी खुली चेतावनी, मांगें नहीं मानी तो ठप करेंगे मंत्रालय की बसें

सूत्रों के मुताबिक मंत्रालय जाने वाले कर्मचारियों और अधिकारियों को उनके गंतव्य पर लाने व ले जाने नगर निगम 130 बसों का परिचालन कराता है। सिटी बस चालक-परिचालकों की मांग 10 दिन में नहीं माने जाने पर इन 130 बसों के परिचालन प्रभावित होने का अंदेशा है। ऐसे में मंत्रालय कर्मचारियों के लिए उपलब्ध कराई गई बस सेवा ठप पड़ सकती है। पढ़िए पूरी ख़बर..

सिटी बस परिचालकों ने दी खुली चेतावनी, मांगें नहीं मानी तो ठप करेंगे मंत्रालय की बसें
X

मांग पूरी नहीं हुई तो मंत्रालय जाने वाली बसें बंद। कोरोनाकाल का वेतन भुगतान लंबित। अवकाश का प्रावधान नहीं। 130 बसों के परिचालन पर मंडराया खतरा।

रायपुर: सिटी बस चालक, परिचालक संघ ने अपनी मांगों काे लेकर बुधवार को नगर निगम आयुक्त प्रभात मलिक के नाम ज्ञापन सौंपा। कोरोनाकाल में वेतन का भुगतान नहीं होने से नाराज चल रहे बस परिचालक संघ ने निगम प्रशासन को 10 दिन का अल्टीमेटम देते हुए कहा है, यदि उनकी मांगों पर सहानुभूति पूर्वक विचार नहीं किया गया तो बस परिचालक मंत्रालय आने-जाने वाली बसों का परिचालन ठप कर देंगे।

संघ के संरक्षक और भाजपा के प्रदेश प्रवक्ता संजय श्रीवास्तव ने संघ की मांगों को जायज बताते हुए कहा, कोरोनाकाल में सिटी बसों के चालक-परिचालकों ने अपनी जान की परवाह किए बिना जोखिम लेते हुए कार्य किया। लॉकडाउन में सेवाएं दी। बदले में वेतन भत्ते का भुगतान तक नहीं हुआ। यह एक तरह से ज्यादती है। अवकाश के दिनों का वेतन काटना कहां का न्याय है? सभी को अवकाश का अधिकर है। चालकों व परिचालकों के साथ अन्याय हो रहा है। परिचालकों को काम से निकाले जाने को मनमानी करार देते हुए संजय श्रीवास्तव ने कहा, कार्य से निकाले जाने वाले सभी कर्मचारियों को बहाल कर महंगाई भत्ता बढ़ाने व ओवर टाइम दिया जाना चाहिए।

Next Story