Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

एबीवीपी और एनएसयूआई कार्यकर्ता आपस में भिड़े, छावनी में तब्दील हुआ महाविद्यालय

दुर्गा काॅलेज में हुआ जमकर बवाल, प्रशासन को बुलानी पड़ी पुलिस, एक-दूसरे पर फेंकी कुर्सियां, पुलिस घेरे में कैंपस से निकाली गई छात्राएं, एबीवीपी और एनएसयूआई कार्यकर्ता आपस में भिड़ गए। हालत इतने खराब हुए कि प्रबंधन को पुलिस बुलानी पड़ी। पढ़िए पूरी ख़बर..

एबीवीपी और एनएसयूआई कार्यकर्ता आपस में भिड़े, छावनी में तब्दील हुआ महाविद्यालय
X

रायपुर: दुर्गा महाविद्यालय में मंगलवार को एबीवीपी और एनएसयूआई कार्यकर्ता आपस में भिड़ गए। हालत इतने खराब हुए कि प्रबंधन को पुलिस बुलानी पड़ी। दोपहर तक महाविद्यालय परिसर पुलिस छावनी में तब्दील हो गया। पुलिस की सुरक्षा में ही लड़कियों को कॉलेज से बाहर निकाला गया। हंगामे के चलते मौदहापारा रोड में भी घंटों जाम लगा रहा। मामला एबीवीपी कार्यकर्ताओं द्वारा डीजे लेकर कैंपस परिसर में प्रवेश के साथ शुरू हुआ। एबीवीपी कार्यकर्ताओं द्वारा डीजे के साथ एक रैली निकाली जा रही थी। जब यह रैली दुर्गा कॉलेज के सामने से निकली तो वहां के छात्रों को भी इसमें शामिल होने कहा गया।

इस दौरान डीजे के साथ ही एबीवीपी कार्यकर्ताओं ने कैंपस में प्रवेश कर लिया। एनएसयूआई कार्यकर्ता पहले ही वहां मौजूद थे। छात्रों को रैली में शामिल करने और डीजे को लेकर दोनों पक्षों के बीच धक्का-मुक्की शुरू हो गई। नारेबाजी के साथ ही दोनों गुटों ने एक-दूसरे पर कुर्सियां भी फेंकी। विवाद बढ़ता देखकर कॉलेज प्रबंधन भी बीच-बचाव करने पहुंचा। उनके साथ भी छात्रों की कहासुनी हुई। इसके बाद महाविद्यालय प्रबंधन द्वारा पुलिस बुला ली गई।

परेशान हुए लोग

विवाद और रैली के कारण बाहर रोड में भी जाम की स्थिति निर्मित हो गई थी। लोग घंटों इसके कारण परेशान होते रहे। पुलिस के आने के बाद दोनों पक्षों को समझाइश देकर मामला शांत कराया गया। कैंपस में उपस्थित छात्राओं को पुलिस की मौजूदगी में ही परिसर से बाहर निकाला गया। विद्यार्थियों के जाने के बाद भी पुलिस कैंपस में तैनात रही। पूरे मामले पर महाविद्यालय की प्राचार्य डॉ. मधु कामरा ने कहा कि समझाइश के बाद विवाद टल गया था। महाविद्यालय में सुरक्षा और बढ़ाई जाएगी ताकि आगे इस तरह की घटना ना हो।

दोनों पक्षों को समझाइश दी गई है कि किसी तरह का वाद-विवाद आगे ना करें। कोई शिकायत या एफआईआर दर्ज नहीं हुई है।

- नितेश ठाकुर, टीआई, मौदहापारा

Next Story