Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

शहरों से निकलकर गांव पहुंची बेरोजगारी, युवा कांग्रेस अध्यक्ष श्रीनिवास बी वी कल पटना में करेंगे 'रोजगार दो डिजिटल रैली'

बिहार युवा कांग्रेस ने कहा कि बेरोजगारी अब शहरों से निकलकर गांव में भी पहुंचने लगी है। इस पर राष्ट्रीय युवा कांग्रेस अध्यक्ष श्रीनिवास बी वी के नेतृत्व में शनिवार को पटना में 'रोजगार दो डिजिटल रैली' होने जा रही है। वर्चुअल रैली को मजबूती देने के प्रयास में बिहार युवा कांग्रेसी नेता जुट गये हैं।

rozgar do digital rally to be held in patna on saturday under youth congress president srinivas bv
X
राष्ट्रीय युवा कांग्रेस अध्यक्ष श्रीनिवास बी वी

बिहार में इन दिनों युवा कांग्रेस समेत अन्य तमाम विपक्षी सियासी दल बिहार सरकार के समक्ष बेरोजगारी के मुद्दे को प्रमुखता से उठा रहे हैं। बिहार कांग्रेस के आधिकारिक ट्विटर एकांउट से ट्वीट कर कहा गया कि कि अब बेरोजगारी शहरों से निकलकर गांव में भी पहुंचने लगी है। इसकी को लेकर युवा कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्रीनिवास बी वी के नेतृत्व में शनिवार को बिहार में रोजगार दो का महा अभियान 'डिजिटल रैली' शुरू होने जा रही है। बिहार युवा कांग्रेस की ओर से बताया गया कि रोजगार दो का महा अभियान 'डिजिटल रैली' पटना के सदाकत आश्रम में आयोजित की जायेगी। जिसका लाइव प्रसारण भी किया जायेगा। वहीं बिहार युवा कांग्रेस की ओर से रोजगार दो का महा अभियान 'डिजिटल रैली' का लाइव प्रसारण देखने के लिये सोशल मीडिया पर लिंकhttp://streamnow.inIYC-RozgarDo/ भी शेयर किया जा रहा है। जिससे लोगों को जुड़ने की भी अपील की जा रही है। बिहार युवा कांग्रेस के नेता अनाम सुल्तान खान अनम ने शुक्रवार को ट्वीट कर इस 'रोजगार दो डिजिटल रैली' का लिंक शेयर किया है और लोगों से इससे जुड़ने की अपील की है। बिहार युवा प्रदेश ने कहा कि कल पटना से आयोजित होने वाली 'रोजगार दो डिजिटल रैली' महज कोई चुनावी रैली नहीं है। बल्कि यह बिहारी युवाओं का, युवाओं के लिए व युवाओं द्वारा नीतीश-मोदी सरकार के खिलाफ ऐलान-ए-जंग है।



नौकरी जाने से एक व्यक्ति का नूकसान नहीं होता, बल्कि पूरा परिवार होता है प्रभावित

बिहार युवा कांग्रेस की ओर से एक और अन्य ट्वीट कर बेरोजगारी दुष्परिणाम बताये गये। बिहार युवा कांग्रेस की तरफ से बताया गया कि नौकरी जाने से केवल एक व्यक्ति प्रभावित नहीं होता। युवा कांग्रेस ने कहा कि यदि एक परिवार में औसतन 4 लोग हैं तो वे चारो ही इससे प्रभावित हुये। इसी प्रकार 5 करोड़ नौकरी जाने का मतलब है कि 20 करोड़ लोगों का नुक़सान हो गया।




Next Story