Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

टीईटी अभ्यर्थियों पर पुलिस ने बर्बरता से किया लाठीचार्ज, जख्मी लोग अस्पताल में भर्ती

बिहार की राजधानी पटना में प्रदर्शकारी टीईटी अभ्यर्थियों पर पुलिस ने बर्बरतापूर्ण तरीके से लाठीचार्ज किया है। कई अभ्यर्थियों को चोटें आने की खबरें हैं। वहीं घटना पर बिहार प्रारंभिक शिक्षक नियोजन, विपक्षी पार्टी राजद ने नाराजगी जाहिर करते हुए इसे हिटलरशाही करार दिया है।

police brutally lathi charge tet candidates in patna
X

पटना: गर्दनीबाग धरना स्थल

बिहार की राजधानी पटना स्थित गर्दनीबाग धरना स्थल पर मंगलवार को विभिन्न टीईटी अभ्यर्थी अपनी मांगों को लेकर प्रदर्शन कर रहे थे। जहां टीईटी अभ्यर्थियों के खिलाफ पुलिस ने बर्बरतापूर्ण तरीके से लाठीचार्ज कर दिया। जानकारी के अनुसार, प्रदर्शकारी प्राथमिक शिक्षक नियोजन प्रक्रिया को जल्द पूरी करने की मांग उठा रहे थे। बताया जा रहा है कि दोपहर बाद प्रदर्शकारी अभ्यर्थी धरना स्थल के गेट पर पहुंचकर सरकार के खिलाफ में नारेबाजी करने लगे। इसके के बाद पुलिस ने इस प्रदर्शकारियों के खिलाफ लाठीचार्ज कर दिया। जिसमें कई अभ्यर्थियों को चोटें आई हैं। बताया जा रहा है कि जख्मी टीईटी अभ्यर्थियों को पटना के गर्दनीबाग अस्पताल में ईलाज के लिए भर्ती करा दिया गया है।

गर्दनीबाग धरना स्थल पर प्रदर्शनकारी मंगलवार की सुबह से ही नारेबाजी व अपनी मांग को पूरी करने को लेकर विरोध प्रदर्शन कर रहे थे। वहीं दोपहर बाद धरना स्थल के गेट पर विभिन्न अभ्यर्थियों ने जोरदार तरीके से प्रदर्शन करना शुरू कर दिया। इसके बाद ही पुलिस बर्बर हो गई और पुलिस ने धरना स्थल के दोनों गेट बंद करने के बाद प्रदर्शकारियों पर लाठीचार्ज करना शुरू कर दिया। बताया जा रहा है कि गर्दनीबाग धरना स्थल से सभी अभ्यर्थियों को हटा दिया गया। आपको बता दें, पूरे बिहार से टीईटी अभ्यर्थी 18 जनवरी से गर्दनीबाग धरना स्थल पर डटे हुए हैं। वहीं 4 दिवसीय आंदोलन एवं धरना प्रदर्शन के दूसरे दिन ऐसे अभ्यर्थियों की संख्या दुगुना हो गई थी।

वहीं अभ्यर्थियों का कहना है कि वे लोग शांतिपूर्ण प्रदर्शन कर रहे थे। एनआईओएस डीएलएड शिक्षक संघ बिहार के अध्यक्ष सूरज गुप्ता की जानकारी के अनुसार, प्रशासन से चार दिनों के धरना प्रदर्शन के लिए अनुमति प्राप्त की कई थी।

मामले पर बिहार प्रारंभिक शिक्षक नियोजन की ओर से ट्वीट कर नाराजगी जाहिर की गई है। बिहार प्रारंभिक शिक्षक नियोजन कहा कहना है कि शिक्षक अभ्यर्थी पुलिस के लाठीचार्ज के बाद गंभीर रूप से घायल और बेहोस हो गए हैं। ये कुशासन की सरकार है। वहीं कहा कि आवाज मत उठाइयेगा ये हिटलर है।

पुलिस के बल पर युवाओं की आवाज दबा रही सरकार: राजद

राजद नेता अरुण कुमार ने भी मामले पर ट्वीट कर निंदा जाहिर की है। राजद नेता ने कहा कि पटना में धरना-प्रदर्शन कर रहे शिक्षक अभ्यर्थियों पर पुलिस द्वारा बर्बरतापूर्ण तरीके से लाठीचार्ज घोर निंदनीय है। बेरोजगार युवा नौकरी की मांगों को लेकर जब भी आंदोलन करने सड़क पर उतरते हैं। नीतीश सरकार पुलिसिया लाठी-डंडे के बल पर आंदोलनकारियों की आवाज को दबाना चाहती है।

Next Story