Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

बसपा सुप्रीमो मायावती ने उपराष्ट्रपति चुनाव में NDA उम्मदीवार जगदीप धनखड़ को दिया समर्थन, जानिए वजह

बहुजन समाजवादी पार्टी की सुप्रीमो मायावती ने राष्ट्रपति चुनाव के बाद अब उपराष्ट्रपति चुनाव के लिए भी एनडीए प्रत्याशी को समर्थन देने का ऐलान किया है। इससे यूपी की सियासत में चर्चाओं का दौर शुरू हो गया है। पढ़िये रिपोर्ट...

बसपा सुप्रीमो मायावती ने उपराष्ट्रपति चुनाव में NDA उम्मदीवार जगदीप धनखड़ को दिया समर्थन, जानिए वजह
X

बसपा सुप्रीमो मायावती ने उपराष्ट्रपति चुनाव के लिए एनडीए प्रत्याशी जगदीप धनखड़ को समर्थन का ऐलान किया। 

उत्तर प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री और बहुजन समाज पार्टी की मुखिया मायावती (Mayawati) ने राष्ट्रपति चुनाव के बाद अब उपराष्ट्रपति चुनाव में भी राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (NDA) के उम्मीदवार जगदीप धनखड़ (Jagdeep Dhankhar) को समर्थन देने का ऐलान किया है। उन्होंने इसकी जानकारी ट्विटर के माध्यम से दी है।

बसपा सुप्रीमो मायावती ने अपने ट्वीट में लिखा, 'सर्वविदित है कि देश के सर्वोच्च राष्ट्रपति पद के लिए चुनाव में सत्ता व विपक्ष के बीच आम सहमति ना बनने की वजह से ही इसके लिए फिर अन्ततः चुनाव हुआ। अब ठीक वही स्थिति बनने के कारण उपराष्ट्रपति पद के लिए भी छह अगस्त को चुनाव होने जा रहा है।'

उन्होंने आगे लिखा कि बीएसपी ने ऐसे में उपराष्ट्रपति पद के लिए हो रहे चुनाव में भी व्यापक जनहित व अपनी मूवमेन्ट को भी ध्यान में रखकर श्री जगदीप धनखड़ को अपना समर्थन देने का फैसला किया है तथा मैं आज इसकी औपचारिक रूप से घोषणा भी कर रही हूं।

बता दें कि मायावती ने इससे पहले राष्ट्रपति चुनाव के लिए भी एनडीए प्रत्याशी द्रौपदी मुर्मू को समर्थन देने का ऐलान किया था। तब उन्होंने कहा था कि सिर्फ अनुसूचित जनजाति महिला के नाते ही उन्होंने एनडीए प्रत्याशी द्रौपदी मुर्मू को समर्थन देने का ऐलान किया है। उन्होंने यह कहा था कि उन्होंने यह फैसला सत्ता के पक्ष या विपक्ष के विरोध में नहीं किया है। उन्होंने यह फैसला अपनी पार्टी की नीतियों के अनुरूप लिया है।

ये हो सकती है वजह

बसपा सुप्रीमो की ओर से उपराष्ट्रपति चुनाव के लिए जगदीप धनखड़ के समर्थन का ऐलान होते ही राजनीतिक गलियारों में चर्चाओं का दौर शुरू हो गया है। राजनीतिक विशलेषकों का कहना है कि पिछले कई दिनों से जहां विपक्ष पर केंद्रीय जांच एजेंसियों की नकेल कस रही है, उससे बसपा किसी भी प्रकार से बीजेपी से मोल नहीं लेना चाहती है। दूसरी वजह यह है कि बसपा के बड़े नेता विपक्षी दलों में जा चुके हैं और अब ऐसे बड़े नेता नहीं हैं, जिस पर बसपा सुप्रीमो पूरी तरह भरोसा कर सके। यही वजह है कि बसपा आगामी रणनीति के मद्देनजर ही फूंक-फूंककर कदम उठा रही है।

बता दें कि पिछली बार मायावती ने राष्ट्रपति चुनाव के लिए एनडीए प्रत्याशी द्रौपदी मुर्मू को समर्थन देने की वजह बताई थी, जबकि अभी तक उन्होंने वजह को स्पष्ट नहीं किया है। हालांकि कहा जा रहा है कि जल्द ही मायावती इस संबंध में प्रेसवार्ता कर सकती हैं, जिसके बाद ही उपराष्ट्रपति पद के लिए एनडीए प्रत्याशी जगदीप धनखड़ को समर्थन देने के पीछे की वजह स्पष्ट हो पाएगी।

और पढ़ें
Next Story