Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

फिरोजाबाद में रहस्यमयी बुखार से अब तक 51 मौतों की पुष्टि, प्रयागराज के अस्पतालों में भी कम पड़ने लगे बेड, देखें तस्वीरें

उत्तर प्रदेश में रहस्यमयी बुखार का प्रकोप लगातार बढ़ रहा है। फिरोजाबाद और मथुरा के बाद अब प्रयागराज में भी इस बुखार ने दस्तक दे दी है। यहां भी सबसे ज्यादा बच्चे ही रहस्यमयी बुखार के निशाने पर हैं। पढ़िये यह रिपोर्ट...

फिरोजाबाद में रहस्यमयी बुखार से अब तक 51 मौतों की पुष्टि, प्रयागराज के अस्पतालों में भी कम पड़ने लगे बेड, देखें तस्वीरें
X

प्रयागराज के मोतीलाल नेहरू हॉस्पिटल के बच्चा अस्पताल का दृष्य। 

उत्तर प्रदेश में मच्छर जनित बीमारियों (Mosquito Borne Diseases) का प्रकोप थमने का नाम नहीं ले रहा। डेंगू (Dengue) और वायरल (Viral) से सर्वाधिक प्रभावित फिरोजाबाद (Firozabad) में एक और बच्चे की मौत हो गई है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक यहां रहस्यमयी बुखार से अब तक 70 से ज्यादा लोगों की मौत हो गई है, लेकिन स्वास्थ्य विभाग ने अब तक 51 मौतों की पुष्टि की है। वहीं मथुरा (Mathura) के बाद प्रयागराज (Prayagraj) में भी इस बुखार का प्रकोप देखा जा रहा है।

न्यूज एजेंसी एएनआई की रिपोर्ट के मुताबिक प्रयागराज के सीएमओ डॉक्टर नानक सरन ने बताया कि मोतीलाल नेहरू हॉस्पिटल के चिल्ड्रन हॉस्पिटल में 120 बेड हैं, लेकिन यहां बेडों की संख्या से ज्यादा मरीज आते हैं। उन्होंने बताया कि पिछले दो दिनों में 171 बच्चों को एडमिट किया गया है। बच्चों के लिए 200 अतिरिक्त बेड जल्द आने वाले हैं।

एक बेड पर दो बच्चे

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक इस अस्पताल में एक बेड पर दो बच्चे भी भर्ती हैं। इस बारे में बच्चों के परिजनों से बात की गई तो उनका यह कहना था कि यहां पर बेहतर चिकित्सकीय सुविधा मिलती है। अगर उनका बच्चा यहां से ठीक होकर जाता है तो कोई परेशानी नहीं है। कुछ ऐसी ही तस्वीर फिरोजाबाद और मथुरा की भी दिखाई दे रही है। यहां भी एक-एक बेड पर दो मरीज नजर आ रहे हैं। रहस्यमयी बुखार का प्रकोप फैलने से डॉक्टरों पर भी काम का दबाव बढ़ गया है।

बच्चों पर ज्यादा प्रकोप

रहस्यमयी बुखार का प्रकोप बच्चों पर ज्यादा देखने को मिल रहा है। फिरोजाबाद में 45 बच्चों समेत 70 से ज्यादा लोगों की मौत का आंकड़ा बताया गया है, लेकिन सिविल सर्जन ने महज 51 मौतों की पुष्टि की है। सीएमओ डॉक्टर दिनेश प्रेमी ने बताया कि "पिछले 24 घंटे में 1 बच्चे की मृत्यु हुई है। मृतकों का आंकड़ा 51 हो गया है। हम लोगों को समझा रहे हैं कि आसपास पानी ना जमा होने दें। अगर पानी है तो उस पर काला तेल डाल दें।"

वहीं मथुरा की बात करें तो यहां भी 13 से ज्यादा मौतें हो चुकी हैं। सीएम योगी के निर्देश पर अधिकारी प्रभावित क्षेत्रों का कैंप कर रहे हैं। मथुरा में सात सितबंर से विशेष अभियान चलाने की भी तैयारी है, जिसके अंतर्गत स्वास्थ्य विभाग की टीमें प्रत्येक घर में जाकर वायरल पीड़ित मरीजों की पहचान सुनिश्चित कर उपचार मुहैया कराएगी।

Next Story