Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

राजस्थान में कोरोना मरीजों को भर्ती करने व छुट्टी देने के लिए नई गाइडलाइन्स जारी, अब इस तरह होगा रोगियों का उपचार

चिकित्सा विभाग ने राज्य में उपलब्ध संसाधनों को देखते हुए कोरोना संक्रमित मरीजों को अस्पताल में भर्ती करने और उन्हें छुट्टी देने के संबंध में प्रदेश के लिए दिशा निर्देश जारी किए हैं।

Rajasthan Corona Update : कोरोना के 69 नए मामले, जानें राज्य में कितना हुआ मौत का आंकड़ा
X

राजस्थान में कोरोना के मरीज

जयपुर। राजस्थान में कोरोना वायरस (Rajasthan Corona Virus) भयावह रूप लेता जा रहा है। राज्य में इस घातक बीमारी ने इस कदर पैर पसार लिए हैं कि लोगों के दिलों में दहशत का माहौल पैदा हो गया है। चिकित्सा विभाग (medical Department) ने राज्य में उपलब्ध संसाधनों को देखते हुए कोरोना संक्रमित मरीजों (Corona Patients) को अस्पताल में भर्ती करने और उन्हें छुट्टी देने के संबंध में प्रदेश के लिए दिशा निर्देश (Guidelines) जारी किए हैं। चिकित्सा शिक्षा सचिव वैभव गालरिया ने इस संबंध में वरिष्ठ विशेषज्ञ चिकित्सकों से विचार विमर्श कर राजकीय एवं निजी चिकित्सालयों के प्रभारियों और अधीक्षकों के लिए दिशा निर्देश जारी किए हैं।

एसएमएस अस्पताल (SMS Hospital) के प्राचार्य डा. सुधीर भंडारी ने बताया कि हल्के लक्षण या लक्षण रहित कोरोना के रोगियों का घर पर ही उपचार सम्भव है। इन रोगियों की समय-समय पर घर पर रक्त में ऑक्सीजन (Oxygen) स्तर की जांच पल्स ऑक्सीमीटर (Pulse Oximeter) द्वारा की जानी चाहिए। उन्होंने कहा कि मध्यम या गम्भीर लक्षण वाले रोगियों में यदि ऑक्सीजन लेवल सही है (90 प्रतिशत से अधिक) तो उनकी भी समय-समय पर घर पर ही मॉनीटरिंग (Monitring) की जाए। स्थिति में बदलाव या स्थिति गम्भीर होने पर तुरन्त चिकित्सक की निगरानी में उपचार कराया जाए।

डा. भंडारी ने बताया कि श्वास लेने में तकलीफ होने, सीने में दर्द, चक्कर आने, मानसिक स्थिति में बदलाव आने की स्थिति में तुरंत रोगी का चिकित्सक की निगरानी में उपचार कराया जाए। उन्होंने बताया कि मध्यम या गम्भीर लक्षण होने, श्वास लेने में अत्यधिक परेशानी होने, या पल्स ऑक्सीमीटर द्वारा मापने पर ऑक्सीजन लेवल निरन्तर कम होने या मानसिक स्थिति में बदलाव, रक्तचाप में कमी के संकेत व लक्षण, सीने में दर्द (हृदयघात के लक्षण), खून में थक्के जमने की संभावना या इंफ्लेमेटरी मारकर्स में अत्यधिक वृद्धि होने पर रोगियों को तुरंत अस्पताल में भर्ती कर इलाज शुरू किया जाए। उन्‍‍‍‍‍‍‍‍होंने कहा कि मरीज की क्लीनिकल स्थिति, ऑक्सीजन लेवल एवं इंफ्लेमेटरी मारकर्स के आधार पर पिछले 48 घंटे में रोगी की स्थिति स्थिर रहने और बीमारी नहीं बढ़ने के लक्षण हो।उन्होंने कहा कि ऐसे मरीजों को कोरोना की आरटी-पीसीआर टेस्ट नेगेटिव रिपोर्ट (RT-PCR Test Negative Report) डिस्चार्ज के लिए आवश्यक नहीं है।

Next Story