Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

Rail Roko Andolan : राजस्थान में दिख रहा रेल रोको आंदोलन का असर, रेलवे ट्रैकों पर किसानों का कब्जा, केंद्र के खिलाफ जमकर नारेबाजी

केंद्रीय कृषि कानूनों के विरोध में संयुक्त किसान मोर्चा ने गुरुवार को जिले की रेलवे लाइन पर कब्जा जमा लिया है। रेल रोको आंदोलन के तहत कार्यकर्ता सीकर रेलवे स्टेशन के अलावा पलसाना व नीमकाथाना सहित कई जगहों पर रेलवे की पटरियों पर धरना देकर बैठ गए हैं।

Rail Roko Andolan : कृषि कानूनों के विरोध में रेलवे ट्रेकों पर किसानों ने किया कब्जा, केंद्र सरकार के खिलाफ जमकर की नारेबाजी
X

कृषि कानूनों के विरोध में रेलवे ट्रेकों पर किसानों ने किया कब्जा

केंद्र सरकार नए कृषि विधेयकों के खिलाफ किसानों का प्रदर्शन उग्र होता जा रहा है। आज देश में किसानों के द्वारा रेल रोको अभियान पूरे देश में चल रहा है। वहीं इसका प्रभाव राजस्थान में भी खासा देखा जा रहा है। यहां केंद्रीय कृषि कानूनों के विरोध में संयुक्त किसान मोर्चा ने गुरुवार को जिले की रेलवे लाइन पर कब्जा जमा लिया है। रेल रोको आंदोलन के तहत कार्यकर्ता सीकर रेलवे स्टेशन के अलावा पलसाना व नीमकाथाना सहित कई जगहों पर रेलवे की पटरियों पर धरना देकर बैठ गए हैं।

जहां संयुक्त किसान मोर्चा के बैनर तले कृषि कानूनों को रद्द करने की मांग को लेकर कार्यकर्ता केंद्र सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी कर रहे हैं। प्रदर्शनकारियों का कहना है कि केंद्र सरकार ने पूंजिपतियों के फायदे के लिए कृषि कानून पास किए हैं। जो किसान विरोधी है। जिन्हें जल्द वापस लेना चाहिए। चेतावनी दी कि यदि सरकार उनकी मांग नहीं मानती है तो आंदोलन को उग्र किया जाएगा। प्रदर्शनकारी सीकर, नीमकाथाना व पलसाना रेलवे स्टेशन सहित कई जगहों पर पटरी पर बैठकर अपनी मांग बुलंद कर रहे हैं। जहां उनके समर्थकों की संख्या भी बढ़ती जा रही है।

रेल संचालन संचालन पर कोई असर नहीं

किसानों के रेल रोको आंदोलन का हालांकि रेलवे संचालन पर कोई असर नहीं होगा। क्योंकि कोरोना काल की वजह से जिले में नियमित रेलों के संचालन पर रोक है। चुनिंदा रेल ही जिले में संचालित हो रही है। जिनका समय भी किसान आंदोलन के समय से इतर है। जिसके चलते रेल रोको आंदोलन से रेल यात्रियों को किसी तरह की कोई परेशानी होने की आशंका नहीं है।

Next Story