Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

किसी दूसरे से दिलवाते थे परीक्षा, खुद ऑनलाइन हैकिंग कर लगवा दी 500 लोगों की सरकारी नौकरी

लेबर इंस्पेक्टर (Labor inspector), जेबीटी टीचर सहित चार अन्य पर सरकारी नौकरी लगवाने के नाम पर धांधली करने का आरोप। पुलिस (police) ने आरोपितों के खिलाफ विभिन्न धाराओं के तहत मुकदमा दर्ज कर की जांच शुरू

किसी दूसरे से दिलवाते थे परीक्षा, खुद ऑनलाइन हैकिंग कर लगवा दी 500 लोगों की सरकारी नौकरी
X

हरिभूमि न्यूज. सोनीपत। शहर थाना क्षेत्र निवासी एक युवक ने पुलिस अधीक्षक (Police Officer) को शिकायत देकर जेबीटी टीचर, लेबर इंस्पेक्टर सहित चार अन्य लोगों पर धांधली कर सरकारी नौकरी लगवाने की एवज में नकदी हड़पने का आरोप लगाया हैं।

पीडि़त का आरोप हैं कि पहले भी आरोपित किसी अन्य से परीक्षा दिलवाते थे और ऑनलाइन परीक्षा के लिए हैकिंग का सहारा ले रहे हैं। वह एक युवक को नौकरी लगवाने के नाम आठ से 20 लाख रुपये लेते हैं। पुलिस अधीक्षक कार्यालय से मिली शिकायत पर पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर लिया हैं। पुलिस मामले की गंभीरता से जांच कर रही हैं।

देव नगर के रहने वाले राकेश कुमार ने एसपी कार्यालय में मई 2019 में शिकायत दी थी कि चार लोग धांधली से सरकारी नौकरी (Government Job) लगवाकर लोगों से पैसे लेते हैं। उसने आरोप लगाया कि आरोपियों में एक लेबर इंस्पेक्टर, एक दिल्ली का जेबीटी टीचर व दो अन्य सगे भाई शामिल हैं।

उसने कहा कि यह एक गिरोह है, जिसके बारे में वह वर्ष 2015 से जानकारी जुटा रहा है। यह युवकों को एएससी, ईएसआईसी, बैंक, रेलवे, एफसीआई व अन्य विभागों में नौकरी लगवाते हैं। उसने कई युवकों के नाम जुटाए हैं जिन्होंने परीक्षा में अन्य को बैठाकर परीक्षा उत्तीर्ण कराई है।

उनकों चारों आरोपित उनकी जगह परीक्षा देने के लिए सीटर उपलब्ध कराकर उनसे मोटी रकम वसूलते हैं। अब यह ऑनलाइन परीक्षा में हैकिंग कर धांधली कर रहे हैं। उसने कई युवकों की सूची भी अपनी शिकायत के साथ दी थी। उसके बाद गोहाना रोड चौकी में आरोपितों के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया गया हैं।

लाखों की नकदी ऐंठी, 500 को लगवा चुके हैं नौकरी

राकेश का आरोप है कि आरोपित 500 से अधिक युवकों से नौकरी लगवा चुके हैं। जिसमें से कई के नाम भी उसने शिकायत में दिए हैं। उसका आरोप है कि परीक्षा में उनके अंगूठे, हस्ताक्षर व फोटो से छेड़छाड़ की गई है। इन्होंने परीक्षा के लिए मेहनत करने वाले युवकों की नौकरी छीनी हैं। राकेश ने बताया कि एक युवक को धांधली कर नौकरी लगाने के बाद उनसे 8 लाख से 20 लाख रुपये तक लिए हैं।

आरटीआई में नहीं मिली जानकारी, सीबीआई व पीएमओ को भी लिखा

राकेश ने इसे लेकर एसएससी से आरटीआई से जानकारी मांगी थी, लेकिन जानकारी नहीं मिल सकी। जिस पर दो बार एसएससी चेयरमैन को पत्र लिखा था। उसने सीबीआई को चंडीगढ़ व दिल्ली में शिकायत की थी, लेकिन उन्होंने स्थानीय स्तर पर शिकायत करने को कहा था। उसने पीएमओ को शिकायत की थी। जहां मामला यह कहकर शिकायत बंद कर दी कि मामला सुप्रीम कोर्ट के अधीन है।

Next Story