Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

Kaithal का तालाब बनेगा पहला मॉडल फिर बदलेगी प्रदेश के 18 तालाबों की सूरत

कैथल (Kaithal) जिले का क्योडक़ गांव प्रदेश का ऐसा पहला गांव होगा जिसके तालाब (pond) के पानी को उपचारित कर सिंचाई व अन्य कार्यों के लिए उपयोग किया जाएगा और यह तालाब एक मॉडल तालाब होगा।

Kaithal का तालाब बनेगा पहला मॉडल फिर बदलेगी प्रदेश के 18 तालाबों की सूरत

चंडीगढ़। कैथल का तालाब हरियाणा (Haryana) का पहला मॉडल तालाब बनेगा, जिसकी सूरत (face) जल्द ही बदलने वाली है। इतना ही नहीं प्रदेश के 18 तालाबों का चयन भी सरकार ने कर लिया है, जोकि कैथल की तर्ज पर बने तालाब की तरह अपने आप में ही मॉडल तालाब कहलाएंगे। सरकार ने मॉडल तालाब के मानक तय कर जल्दी ही सभी की सूरत बदलने की कवायद शुरू करने के निर्देश भी जारी कर दिए है।

यह जानकारी हरियाणा के उप-मुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला (Dushyant Chautala) ने दी। उन्होंने कहा कि कैथल जिले का गांव क्योडक प्रदेश का ऐसा पहला गांव होगा, जिसके तालाब के पानी को उपचारित कर सिंचाई व अन्य कार्यों के लिए उपयोग किया जाएगा और यह तालाब एक मॉडल तालाब होगा जिसका अनुसरण हरियाणा तालाब एवं अपशिष्ट जल प्रबंधन प्राधिकरण द्वारा ग्रामीण क्षेत्रों के तालाबों के पानी को उपचारित करने के लिए अपनाई जा रही तीन पोंड व पांच पोंड प्रणाली में किया जाएगा। उन्होंने बताया कि क्योडक़ के तालाब का लगभग 95 प्रतिशत कार्य पूरा हो चुका है तथा सम्भवत: 15 जुलाई, 2020 तक इसे लोकार्पित कर दिया जाएगा।

ये है प्रदेश के 18 तालाब

डिप्टी सीएम चौटाला ने कहा कि पहले चरण में जिन 18 तालाबों को मॉडल तालाब के रूप में विकसित किया जाएगा उनमें कैथल जिले का क्योडक़ गांव का तालाब जो लगभग 35 एकड़ क्षेत्र में होगा, झझर जिले का 3.9 एकड़ में जाखौदा गांव का, करनाल जिले के 8.5 एकड़ में साग्गा का, 27 एकड़ में पाढा गांव का, 10.5 एकड़ में काछवा का तथा 11 एकड़ में गौंदर गांव का, एक एकड़ में अम्बाला जिले का तेपला गांव का, 5.26 एकड़ में कुरुक्षेत्र जिले का दयालपुर गांव का, सोनीपत जिले के कासंडी गांव के 5.5 एकड़ तथा 2.5 एकड़ के दो तालाब, रोहतक जिले के बालद गांव का 3 एकड़ क्षेत्र का, बहु-अकबरपुर के आठ व एक एकड़ के दो तालाब, निंडाना टिकरी का 8.5 एकड़ का तथा बनियानी गांव का 2.05 एकड़ का तालाब, पलवल जिले के 22 एकड़ क्षेत्र में औरंगाबाद गांव का तालाब तथा 3.5 एकड़ क्षेत्र में हिसार जिले का राखीगढ़ी का तालाब शामिल हैं।

मॉडल तालाब के ये रहेंगे मानक

उप-मुख्यमंत्री ने कहा कि मॉडल तालाब के लिए 11 बिंदुओं पर मुख्य रूप से ध्यान केन्द्रित किया जाएगा जिनमें तालाब में इनलेट और आउटलेट का आवश्यक होना, ताताबी के ओवरफलोइंग का उचित समाधान करना, तालाब में पानी की न्यूनतम गहराई 8 फूट बनाए रखना, तालाब में समतल सतह, हरित पट्टïी तथा जल ग्रहण क्षेत्र का होना, तालाब में डीपीडी तार की जाली को होना, तालाब की ग्रीन बेल्ट में प्राकृतिक पेड़-पौधे होने चाहिए। तालाब की जैव विविधता होनी चाहिए अर्थात मछली, कछुए, मेंढक, सांप, कमल के फूल की खेती, बत्तख, कैना तथा तालाब की प्रकृति के अनुसार जंगली घास व अन्य जड़ी बूटी होनी चाहिए। गायों के लिए एक मार्ग और गऊ घाट तथा अन्य जानवरों लिए मार्ग का प्रावधान होना चाहिए। तालाब के सौंदर्यीकरण तथा इसकी गहराई व डी-सिल्टिंग समय पर होनी चाहिए। तालाब के तट साफ होने चाहिए तथा चारों ओर रिटेनिंग वॉल का प्रावधान किया जाना शामिल है।

Next Story
Top