Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

भंडाफोड़ : कॉल सेंटर की आड़ में चल रहा था धोखाधड़ी का खेल, 34 लड़कियां व 86 लड़के काम कर रहे थे

ये लोग अमेरिका समेत कई देशों के नागरिकों को खुद नामी कंपनियों के कर्मचारी बताकर उन्हें अपने जाल में फंसाते थे। पुख्ता सबूतों के आधार पर अब पुलिस ने कॉल सेंटर चलाने वालों के खिलाफ कई धाराओं के तहत केस दर्ज किया है। अभी पुलिस मामले की गहनता से जांच कर रही है।

भंडाफोड़ : कॉल सेंटर की आड़ में चल रहा था धोखाधड़ी का खेल,  34 लड़कियां व 86 लड़के काम कर रहे थे
X

हरिभूमि न्यूज. अंबाला

स्पेशल टॉस्क फोर्स ने घूंघट पैलेस में गैरकानूनी तरीके से चल रहे कॉल सेंटर का भंडाफोड़ किया है। शुरूआती जांच में यह पता चला है कि इस कॉल सेंटर में विदेशी लोगों के साथ धोखाधड़ी का खेल चल रहा था। सेंटर में 86 लड़के व 34 लड़कियां काम कर रही थी। ये लोग अमेरिका समेत कई देशों के नागरिकों को खुद नामी कंपनियों के कर्मचारी बताकर उन्हें अपने जाल में फंसाते थे। पुख्ता सबूतों के आधार पर अब पुलिस ने कॉल सेंटर चलाने वालों के खिलाफ कई धाराओं के तहत केस दर्ज किया है। अभी पुलिस मामले की गहनता से जांच कर रही है।

गुरुग्राम के राहुल व पंचकुला के कमल ने अपने कुछ साथियों के साथ मिलकर घूंघट पैलेस में ठगी का यह कारोबार करीब 7-8 महीने पर ही शुरू किया था। इस काल सेंटर के लिए लड़के व लड़कियों को नौकरी पर रखा गया। इसके बाद सभी को विदेश नागरिकों से ठगी करने की ट्रेनिंग दी गई। कॉल सेंटर मालिक इन कर्मचारियों को अमेरिकी नागरिकों का डाटा ऑनलाइन आईपी के जरिए उन्हें उपलब्ध करवाता था। इसके बाद ये लोग वीसी डायलर के माध्यम से उन नागरिकों से संपर्क करते थे।

ये कर्मचारी खुद को अमेजन कंपनी के लॉ इंफोर्समेंट डिपार्टमेंट ऑफ फेडरल रिजर्व सस्टिम के अधिकारी बताते थे। इसके बाद अमेजन कार्ड व उनके बैंक खातों में संदिग्ध ट्रांजेक्शन की बताकर उन्हें धमकाते थे। इसके बाद उनके बैंक खातों से ऑनलाइन अमेजन कार्ड व अन्य गिफ्ट वाउचर के कार्ड खरीदकर 200 से 1000 डॉलर तक की धोखाधड़ी करते थे। कर्मचारी विदेशी नागरिकों को धमकाकर अमेजन कार्ड व गिफ्ट वाउचर का नंबर धोखे से लेकर उसे रिडीम करवाकर उनके बैंक खातों से पैसे निकाल लेते थे। जांच टीम को मौके से मिले लैपटॉप, कंप्यूटर को चेक करने पर उनमें वीसी डायलर सॉफ्टवेयर इंस्टाल मिला। इस दौरान बातचीत की स्क्रिप्ट के पेज भी बरामद किए गए। लैपटॉप के साथ डेस्कटॉप, मोबाइल फोन व स्क्रिप्ट को पुलिस ने अपने कब्जे में ले लिया है।

बाहर निर्माण का बोर्ड, अंदर चल रहा था सेंटर

घूंघट पैलेस के बाहर निर्माण कार्य चलने के कारण दिसंबर 2021 तक शादी विवाह की बुकिंग पर रोक लगाई हुई थी। मजे की बात है कि पैलेस के अंदर गैरकानूनी कॉल सेंटर चलाया जा रहा था। इसी वजह से पैलेस मालिकों की भूमिका भी जांच के दायरे में आ रही है। जांच के दौरान पुलिस ने जिन 120 युवक व युवतियों को हिरासत में लिया था। नाम पते नोट करने के बाद उन्हें रिहा कर दिया गया है। हालांकि टीम लीडर अभी भी पुलिस हिरासत में बताए जा रहे हैं।


हमें सूचना मिली थी कि हिसार रोड स्थित घूंघट पैलेस में पिछले कई महीने से विदेशी नागरिकों को ठगने का गौरखधंधा चल रहा है। पुख्ता सबूत जुटाने के बाद बुधवार को यहां रेड की गई। कॉल सेंटर पूरी तरह गैरकानूनी है। शुरुआती जांच में यहां काम करने वाले युवाओं ने यह बात स्वीकार की है कि अमेरिकी नागरिकों से इस कॉल सेंटर में ठगी होती थी। मुख्य आरोपी अभी फरार हैं। जल्द ही काबू कर उनसे गहन पूछताछ की जाएगी। - कुलभूषण, डीएसपी, स्पेशल टॉस्क फोर्स, अंबाला

और पढ़ें
Next Story