Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

फर्जी हेल्पलाइन नंबरों पर कॉल करने से बचें बैंक उपभोक्ता

आप गूगल पर किसी हेल्पलाइन नंबर (Helpline number) को सर्च करते हैं तो पहले लिंक पर क्लिक करने से बचें और कॉल करने से पहले नंबर की जांच आधिकारिक वेबसाइट (Official website) पर अवश्य करें ताकि किसी भी प्रकार की ऑनलाइन धोखाधड़ी से बचा जा सके।

Cyber Fraud: अब बैंक अकाउंट से पैसा चोरी होने पर ऐसे वापस मिलेंगे पैसे, बनाई गई है 12615 एक्सपर्ट की टीम
X

Cyber Fraud

हरिभूमि न्यूज, लोहारू

लोहारू पंजाब नेशनल बैंक शाखा के वरिष्ठ प्रबंधक पुष्पेंद्र कुमार ने कहा कि डिजिटल इंडिया (Digital India) की दौड़ में लोग अब डिजिटल तरीके से रुपये तो ट्रांसफर करने लगे हैं लेकिन इस मामले में उपभोक्ता की मामूली सी चूक उसे काफी आर्थिक नुकसान भी पहुंचा सकती है। इसलिए प्रत्येक उपभोक्ता (Consumer) को गूगल पर दिए गए फर्जी हेल्पलाइन नंबरों पर कॉल करने से बचना चाहिए।

पुष्पेंद्र कुमार ने कहा कि अगर आप गूगल पर किसी हेल्पलाइन नंबर को सर्च करते हैं तो पहले लिंक पर क्लिक करने से बचें और कॉल करने से पहले नंबर की जांच आधिकारिक वेबसाइट पर अवश्य करें ताकि किसी भी प्रकार की ऑनलाइन धोखाधड़ी से बचा जा सके। शाखा प्रबंधक ने कहा कि आप बैंक, फोन पे, गूगल पे, रेलवे, पेटीएम, ई-वॉलेट जैसी ट्रांजेक्शन या कॉल उनकी ऑफिशिअल वेबसाइट पर दिए गए हेल्पलाइन नंबर पर जाकर ही करें। ध्यान रखें कि किसी भी हेल्पलाइन नंबर पर जब आप फोन करते हैं तो कोई भी आपसे बैंक अकाउंट, पैन कार्ड, आधार कार्ड जैसी आपकी अहम और प्राइवेट जानकारी मांगे तो तुरंत फोन काट दें तथा इसकी जानकारी संबंधित बैंक शाखा व पुलिस को दें। उन्होंने बताया कि ज्यादातर कंपनियों के हेल्पलाइन नंबर टोल फ्री होते हैं और इन टोल फ्री नंबर की शुरुआत 1800 से होती है। जब भी आपके पास कोई मेसेज आए उसे अच्छी तरह से पढ़ना चाहिए। फोन पर बात करने वाला व्यक्ति आपसे कोई ओटीपी या कोड बताने की मांग करे तो उसे यह जानकारी नहीं देनी चाहिए।

उन्होंने बताया कि अगर हेल्पलाइन पर बात करने वाला व्यक्ति आपको कोई ऐप डाउनलोड करने के लिए या फिर किसी लिंक पर क्लिक करने के लिए कहे तो आप ऐसा ना करें आजकल ऐसे ऐप और लिंक्स से आपके फोन को हैक करके आपके खाते से सारे रुपए निकाले जा सकते हैं। इन ऐप्स के जरिए आजकल साइबर क्रिमिनल्स आपके फोन या कंप्यूटर का एक्सेस कर आपको ठगी का शिकार बना सकते हैं। अपनी पर्सनल इन्फोर्मेशन जैसे बैंक डिटेल, डेबिट कार्ड, क्रेडिट कार्ड, ई-वॉलेट की जानकारी किसी को न दें। फिर भी अगर कोई जाने अनजाने में ठगों का शिकार हो जाता है तो इसकी सूचना तुरंत बैंक व पुलिस को दें।

Next Story