Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

आदेश निकलते ही आधी रात खुले बैरियर, सालभर में कमाएंगे ढाई सौ करोड़

तीन साल पहले बंद हुए थे, अब फिर से शुरू हुई जांच, वाहनों के दस्तावेज ऑनलाइन देखे जा सकेंगे

आदेश निकलते ही आधी रात खुले बैरियर, सालभर में कमाएंगे ढाई सौ करोड़
X

रायपुर. छत्तीसगढ़ में बंद हुई परिवहन जांच चौकियां ठीक तीन साल बाद 4 जुलाई से प्रारंभ हो गई हैं। इन चौकियों में परिवहन विभाग के साथ वाणिज्यककर विभाग का अमला वाहनों की निर्धारित प्रक्रिया के तहत जांच करेगा। उच्च पदस्थ सूत्रों की मानें तो इस जांच से राज्य सरकार को सामान्य परिस्थितियों में करीब ढाई सौ करोड़ रुपए सालाना राजस्व मिलेगा।राज्य सरकार द्वारा प्रदेश की सीमाओं पर 16 परिवहन जांच चौकियां प्रारंभ करने का आदेश दिए जाने के बाद 4 जुलाई आधी रात से जांच चौकियां खुल गई हैं, लेकिन ठीक चार साल पहले पूर्ववर्ती सरकार का समय से जब इन्हें बंद किया गया था, तब से अब तक देखरेख के अभाव में जर्जर हो गए हैं, वहां की व्यवस्था खराब हो गई है। बताया गया है कि इन्हें व्यवस्थित करने में कुछ दिनों का समय लगेगा। चौकियों में कैमरे भी लगाए जाएंगे। उनमें गाड़ियों का नंबर आने के साथ ही उससे संबंधित सभी दस्तावेज ऑनलाइन नजर आने लगेंगे।

वाहनों की होगी जांच, मिलेगा राजस्व

परिवहन जांच चौकियों में मालवाहक वाहनों के साथ यात्री बसों की भी जांच पड़ताल की जाएगी। मालवाहकों में आवश्यक दस्तावेजों के साथ ये भी देखा जाएगा कि माल परिवहन की पासिंग कितनी है और कितना माल भरा है। अगर माल अधिक भरा है तो प्रति टन के हिसाब से जुर्माना वसूला जाएगा। यात्री बसों में परमिट, टैक्स, फिटनेस आदि की जांच की जाएगी। परिवहन चौकियों में वाणिज्यिककर विभाग का भी अमला मौजूद रहेगा। यह मालवाहकों के लिए लागू होने वाले ई-वे बिल आदि की जांच के साथ फार्म 59 आदि की जांच करेगा। माल परिवहन के दौरान सेलटैक्स संबंधी करों की चोरी पकड़ी जाएगी। जुर्माने के रूप में शासन को राजस्व की प्राप्ति होगी।

ये है प्रदेश की 16 जांच चौकियां

परिवहन जांच चौकियों में पाटेकोहरा, छोटा मानपुर एवं मानपुर जिला राजनांदगांव, चिल्फी जिला कबीरधाम, खम्हारपाली एवं बागबाहरा जिला महासमुंद, केंवची जिला बिलासपुर, धनवार एवं राजानुजगंज जिला बलरामपुर, घुटरीटोला एवं चांटी जिला कोरिया, रेंगारपाली जिला रायगढ़, शंख एवं लावाकेरा जिला जशपुरनगर, कोंटा जिला सुकमा और धनपूंजी जिला जगदलपुर शामिल हैं।फिर दौड़ेगा उड़नदस्तापरिवहन जांच चौकियों के साथ परिवहन विभाग का उड़नदस्ता भी काम करेगा। इस दस्ते में दक्ष अधिकारियों-कर्मचारियों की नियुक्तियां की जाएंगी। फिलहाल आदेश में कहा गया है कि संबंधित क्षेत्रीय, अतिरिक्त क्षेत्रीय एवं जिला परिवहन अधिकारी तत्काल परिवहन चेकपोस्ट को पुनः स्थापित करें। चेकपोस्ट पर पदस्थ करने के लिए अधिकारियों-कर्मचारियों की पदस्थापना के संबंध में आदेश अलग से जारी किए जाएंगे। आदेश के साथ ही परिवहन उड़नदस्ता का संचालन पुनः प्रारंभ किया गया है।

ओवरलोड पर ये है नियम

बताया गया है कि मालवाहकों में ओवरलोड पाए जाने पर पासिंग के अतिरिक्त लोड के एवज में जुर्माना लिए जाने का प्रावधान है। इसके बाद भी वाहन को वैसे ही नहीं छोड़ा जा सकता है। नियम ये है कि ओवरलोड वाहन से जितना लोड ओवर है, उसे खाली करवा कर वाहन को रवाना करना है। जांच चौकियों के आसपास तौल के लिए धर्मकांटा लगाया जाएगा।

Next Story