Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

खगड़िया में बाढ़ पीड़ितों के लिये विशेष चलंत बोट एम्बुलेंस सेवा शुरू, कोरोना जांच की सुविधा भी है मौजूद

बिहार के खगड़िया में बाढ़ पीड़ितों को बेहतर स्वास्थ्य सेवायें उपलब्ध कराने के लिये विशेष चलंत बोट एम्बुलेंस सेवा शुरू की गई है। एम्बुलेंस सेवा में कोरोना जांच, गर्भवती महिलाओं की जांच समेत तमाम सुविधायें मौजूद हैं। साथ ही पशुओं के उपचार के लिये भी चलंत बोट पशु स्वस्थ्य सेवा शुरू की गई है।

special moving boat ambulance service started for flood victims in khagaria corona investigation facility is also available
X
खगड़िया में बाढ़ पीड़ितों को बेहतर स्वास्थ्य सेवायें उपलब्ध कराने के लिये विशेष चलंत बोट एम्बुलेंस सेवा शुरू की गई है।

खगड़िया जिले के जिलाधिकारी आलोक रंजन घोष ने बुधवार को बताया कि खगड़िया जिले में बाढ़ की विभीषिका से जूझते परिवारों के लिए बेहतर स्वास्थ्य सेवा उपलब्ध कराये जाने के लिये विशेष चलंत बोट एम्बुलेंस सेवा प्रारम्भ की गई है। वहीं जिलाधिकारी ने जानकारी दी कि विशेष चलंत बोट एम्बुलेंस सेवा में कोरोना संक्रमण की जांच और गर्भवती महिलाओं की जांच के साथ नियमित स्वास्थ्य जांच सुविधायें मौजूद हैं। इसके अलावा उन्होंने बताया कि इस एम्बुलेंस सेवा में ऑक्सीजन सिलिंडर की सुविधा दी जा रही है। ताकि गंभीर रूप से बीमार व्यक्ति को सांस लेने में कोई दिक्कत ना आये। याद रहे बीते दिनों में जिले से गर्भवती महिलाओं की जांच एवं उनकी नियमित स्वास्थ्य जांच को लेकर समस्यायें सामने आ रही थी। इसके अलावा जांच के आभाव में कोरोना महामारी की बड़े स्तर पर फैलने की आशंकायें प्रबल हो गई थी।



जिले में चलंत बोट पशु स्वस्थ्य सेवा की शुरुआत भी की गई

खगड़िया के जिलाधिकारी आलोक रंजन घोष ने बताया कि जिले में चलंत बोट पशु स्वस्थ्य सेवा की शुरुआत भी की गई है। जिलाधिकारी ने कहा कि खगड़िया में बाढ़ की विभीषिका से जूझते पशुपालकों के मवेशियों के स्वास्थ्य हित को ध्यान में रखकर चलंत बोट पशु स्वस्थ्य सेवा प्रारम्भ की गई है। वर्तमान में चल रहे ईयर टैगिंग के साथ साथ मौसमी बीमारियों के इलाज हेतु ये सेवा अत्यंत कारगर सिद्ध होगी। साथ ही जिलाधिकारी ने कहा कि अब जिलें मेंं बाढ़ की विभीषिका से जूझ रहे पशुपालकों को मवेशियों के उपचार के संबंध में परेशानियों का सामना नहीं करना पड़ेगा। याद रहे बाढ़ के दौरान लगातार पशुओं के स्वास्थ्य को लेकर पशुपालकों द्वारा चिंतायें जताये जाने की बाते सामने आ रही थी।




Next Story