Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

स्कॉलरशिप घोटाला: 250 करोड़ रुपए के स्कॉलरशिप घोटाले का आरोपी निकला कोरोना संक्रमित, जेल विभाग ने नहीं भेजा अस्पताल

हिमाचल के शिमला जिले की कैथू जेल में बंद छात्रवृत्ति घोटाले का आरोपी हितेश गांधी कोरोना पॉजिटिव हो गया है। उसके पॉजिटिव होने के बावजूद जेल प्रशासन ने उसे अस्पताल में शिफ्ट नहीं किया है।

स्कॉलरशिप घोटाला: 250 करोड़ रुपए के स्कॉलरशिप घोटाले का आरोपी निकला कोरोना संक्रमित,जेल विभाग ने नहीं भेजा अस्पताल
X
प्रतीकात्मक तस्वीर

हिमाचल के शिमला जिले की कैथू जेल में बंद छात्रवृत्ति घोटाले का आरोपी हितेश गांधी कोरोना पॉजिटिव हो गया है। उसके पॉजिटिव होने के बावजूद जेल प्रशासन ने उसे अस्पताल में शिफ्ट नहीं किया है। बल्कि कैदियों से अलग कर्मचारियों के एक खाली बैरक में पुलिस की सुरक्षा में शिफ्ट कर दिया है। खास बात यह है कि जेल विभाग ने कोरोना के डर के चलते हिमाचल की जेलों में बंद कैदियों की मिलाई तक पूरी तरह बंद कर रखी है।

साथ ही जेल कर्मियों को भी छुट्टी भेजने के बाद वापस आने पर कम से कम पांच दिन क्वारंटीन रखने के आदेश दिए हैं। यह कवायद जेल के अंदर कोरोना न पहुंचने के लिए करने के दावे किए गए हैं। लेकिन अब एक हाई प्रोफाइल कोरोना पॉजिटिव मरीज को जेल में रखना चर्चा का विषय बन गया है।

दरअसल, 250 करोड़ से ज्यादा के छात्रवृत्ति घोटाले की जांच कर रही केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो (सीबीआई) ने केसी ग्रुप ऑफ इंस्टीट्यूट के वाइस चेयरमैन हितेश गांधी को गिरफ्तार किया था। गिरफ्तारी के बाद से वह कैथू जेल में बंद था। कुछ दिन पहले गांधी की मां का देहांत हो गया था। मां की मौत के बाद कोर्ट के आदेश पर गांधी को पुलिस अभिरक्षा में पंजाब स्थित अपने घर ले जाया गया। पंजाब से वापस आने से पहले उसका कोरोना टेस्ट हुआ जिसमें उसकी रिपोर्ट पॉजिटिव आई।

इसके बाद पुलिस उसे शिमला ले आई और अस्पताल में भर्ती कराने या कोरोना टेस्ट कराने के उसे जेल को सौंप दिया। जेल विभाग ने भी कोरोना पॉजिटिव रिपोर्ट होने के बावजूद गांधी को जेल परिसर में ही रख लिया है। इस बारे में जेल प्रशासक जगजीत चौधरी ने कहा कि विचाराधीन कैदी को जेल के आउटर में रखा गया है। पॉजिटिव रिपोर्ट आने के बाद जेल प्रशासन की ओर यह कदम उठाया गया है।


Next Story