Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

पौंग डैम में बर्ड फ्लू की पुष्टि, अब तक 1800 प्रवासी पक्षियों की हो चुकी है मौत

हिमाचल प्रदेश में पौंग झील पहुंचे प्रवासी पक्षियों में बर्ड फ्लू की पुष्टि के बाद राज्य में अलर्ट जारी कर दिया गया है। कांगड़ा जिला के चार उपमंडलों में कड़ी बंदिशों के बाद अब पौंग के एक किलोमीटर रेडियस में बर्ड किलिंग के आदेश जारी करने की तैयारी है।

पौंग डैम में बर्ड फ्लू की पुष्टि, अब तक 1800 प्रवासी पक्षियों की हो चुकी है मौत
X

पौंग डैम में बर्ड फ्लू

हिमाचल प्रदेश में पौंग झील पहुंचे प्रवासी पक्षियों में बर्ड फ्लू की पुष्टि के बाद राज्य में अलर्ट जारी कर दिया गया है। कांगड़ा जिला के चार उपमंडलों में कड़ी बंदिशों के बाद अब पौंग के एक किलोमीटर रेडियस में बर्ड किलिंग के आदेश जारी करने की तैयारी है। राज्य सरकार ने हिमाचल में हो रहे चिकन व अंडों की बिक्री पर सतर्कता बरतने को कहा है। जाहिर है कि बर्ड फ्लू ने हिमाचल में दस्तक दे दी है। प्रदेश भर में अलर्ट जारी होने के बाद कांगड़ा जिला के चार उपमंडलों में प्रशासन ने अंडा, मीट, मछली, चिकन की बिक्री पर पूर्ण रूप से प्रतिबंध लगा दिया है।

वहीं, भोपाल से आई अंतिम रिपोर्ट में भी प्रवासी पक्षिओं में बर्ड फ्लू की पुष्टि हुई है। चारों उपमंडलों में बने पोल्ट्री फार्म में मुर्गों के सैंपल जांच को लिए भेजे जाएंगे, जिसके बाद रिपोर्ट के आधार पर आगामी कार्रवाई की जाएगी। इसके साथ ही इन पोल्ट्री फार्मों से मुर्गों, अंडों की सप्लाई और बेचने पर पाबंदी लगा दी गई है। गौर हो कि जालंधर और पालमपुर वैटरिनरी रिसर्च इंस्टीच्यूट से मिली प्रारंभिक रिपोर्ट में मौत की वजह बर्ड फ्लू बताई गई और सोमवार देर शाम भोपाल से आई रिपोर्ट में भी बर्ड फ्लू की पुष्टि हुई है।

गौरतलब है कि पौंग डैम में पिछले चार दिनों से प्रवासी पक्षियों की मौत का सिलसिला जारी है। अभी तक पौंग डैम में 1800 के करीब प्रवासी पक्षियों की मौत हो चुकी है। रोजाना 200 से 250 प्रवासी परिंदे मरे हुए मिल रहे हैं, जिन्हें यहां पर कड़ी सुरक्षा के बीच डिस्पोज किया जा रहा है। प्रशासन यहां पर पहले ही पौंग डैम में लोगों की आवाजाही पूरी तरह से प्रतिबंध कर चुका है, जबकि मछलियों को पकड़ने पर भी पूरी तरह से प्रतिबंध लगा दिया गया है। किसी को भी झील के पास जाने की अनुमति नहीं दी जा रही है।

Next Story