Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

अभय चौटाला का ऐलान : कालका और ऐलनाबाद में उपचुनाव लड़ेगी इनेलो

इनेलो नेता ने कहा कि कोई भी आंदोलन हिंसक नहीं होता। आंदोलन को हिंसक सत्ता में बैठे लोग करते हैं। असल में तो यह कानून भाजपा पर लागू होना चाहिए जिसने आंदोलनकारियों को रोकने के लिए नेशनल हाईवे खुदवा दिए थे।

अभय चौटाला का ऐलान : कालका और ऐलनाबाद में उपचुनाव लड़ेगी इनेलो
X

अभय चौटाला।

इनेलो के वरिष्ठ नेता और पूर्व विधायक अभय चौटाला ने संपत्ति क्षति विधेयक को लेकर विरोध जताया है। उन्होंने कईं जिलों में शस्त्र लाइसेंस बनाने में फैल रहे भ्रष्टाचार को लेकर चिंता जाहिर की साथ ही आने वाले दिनों में बड़ा खुलासा करने का दावा किया है। चौटाला ने साफ कर दिया है कि कालका और ऐलनाबाद दोनों जगह से चुनाव लड़ेंगे। जिसके लिए अभी से तैयारी की शुरुआत कर दी है। अभय चौटाला ने कहा कि कालका हलके के 36 गांवों का का दौरा कर चुके हैं। 10 अप्रैल तक एक-एक गांव और वार्ड में जाऊंगा। उन्होंने कहा कि लोगों में इनेलो को लेकर बेहद ही उत्साह व्याप्त है। लोग हमारी बात सुनकर भरोसा दिलाते हैं कि वो इनेलो के साथ खड़े हैं और भाजपा-जजपा के लोगों को गांव में घुसने भी नहीं देंगे। इनेलो प्रधान महासचिव अभय चौटाला ने शुक्रवार को चंडीगढ़ में पत्रकारों से बातचीत कर रहे थे।

सरकारी स्कूल बंद करने पर जताई चिंता

भाजपा सरकार द्वारा हरियाणा प्रदेश के एक हजार से ज्यादा प्राइमरी स्कूल बंद करने पर पत्रकारों द्वारा पूछे गए सवाल का जवाब देते हुए कहा कि इसके पीछे सरकार की मंशा है कि गांव का बच्चा अनपढ़ रहे। उन्होंने कहा कि भाजपा-आरएसएस की हमेशा से एक सोच रही है कि लोगों को अनपढ़ और गरीब रखा जाए इसलिए केंद्र सरकार ने तीन कृषि कानून बनाए हैं ताकि किसानों को कमजोर किया जा सके।

आंदोलन में हिंसा के लिए सत्ताधारी जिम्मेदार

विरोध प्रदर्शन के दौरान संपत्ति को होने वाले नुकसान की वसूली आंदोलनकारियों से करने वाले कानून पर पूछे सवाल का जवाब देते हुए इनेलो नेता ने कहा कि कोई भी आंदोलन हिंसक नहीं होता। आंदोलन को हिंसक सत्ता में बैठे लोग करते हैं। उन्होंने कहा कि असल में तो यह कानून भाजपा पर लागू होना चाहिए जिसने आंदोलनकारियों को रोकने के लिए नेशनल हाईवे खुदवा दिए थे। निंदा प्रस्ताव पर पूछे सवाल का जवाब देते हुए उन्होंने कहा कि प्रदेश की जनता ने भाजपा गठबंधन को चुनकर सत्ता में बिठाया था लेकिन ये उनकी उम्मीदों पर खरे नहीं उतरे इसलिए निंदा प्रस्ताव भी सरकार को खुद के खिलाफ लेकर आना चाहिए था।


Next Story