Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

जनवरी में शुरू होगी आयुर्वेद अस्पताल में ओपीडी

कोविड आपातकाल में बनाए गए कोविड सेंटर की वजह से प्रभावित आयुर्वेद अस्पताल की ओपीडी जनवरी के पहले सप्ताह में प्रारंभ होगी। भवन हस्तांतरित होने के बाद स्वास्थ विभाग सामान शिफ्टिंग कर रहा है। इसके बाद सेनेटाइज्ड और सफाई की प्रक्रिया पूरी होने में सप्ताहभर का वक्त लगने की संभावना है।

जनवरी में शुरू होगी आयुर्वेद अस्पताल में ओपीडी
X
ओपीडी (प्रतीकात्मक फोटो)

कोविड आपातकाल में बनाए गए कोविड सेंटर की वजह से प्रभावित आयुर्वेद अस्पताल की ओपीडी जनवरी के पहले सप्ताह में प्रारंभ होगी। भवन हस्तांतरित होने के बाद स्वास्थ विभाग सामान शिफ्टिंग कर रहा है। इसके बाद सेनेटाइज्ड और सफाई की प्रक्रिया पूरी होने में सप्ताहभर का वक्त लगने की संभावना है।

लगभग चार माह पहले प्रदेश में कोरोना के पीक के दौरान संक्रमितों के उपचार के लिए आयुर्वेद अस्पताल में चार सौ बिस्तर का कोविड केयर सेंटर बनाया गया था। इसके बाद अस्पताल की ओपीडी को कालेज के दो कमरों में शिफ्ट कर दिया गया था।

नवंबर में कोरोना के नियंत्रित होने के बाद मरीजों की सुविधा और आयुर्वेद छात्रों की पढ़ाई में होने वाली परेशानी का हवाला देते हुए ओपीडी संचालन के लिए अस्पताल भवन वापस मांगा गया था।

दो दिन पहले जिला मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डा. मीरा बघेल ने ओपीडी विभाग तथा ओपीडी का प्रथम तल चिकित्सकीय व्यवस्थापन एवं महाविद्यालय संचालन के लिए हैंडओवर कर दिया था। यहां से स्वास्थ्य विभाग ने अपना सामान समेटने का काम भी शुरू कर दिया है और एक-दो दिनों में यह काम भी पूरा हो जाएगा।

इसके बाद वापस मिले भवन को सेनेटाइज्ड कर संक्रमण मुक्त करने और सफाई कराने के बाद कालेज भवन से ओपीडी सामग्री को वहां शिफ्ट करने का काम पूरा किया जाएगा। माना जा रहा है कि इसमें सप्ताहभर का वक्त लग सकता है। इसलिए ओपीडी का संचालन जनवरी के प्रथम सप्ताह में भी प्रारंभ किए जाने की संभावना है।

यूसीएससी में आक्सीजन यूनिट

आयुर्वेद अस्पताल में स्वास्थ्य विभाग द्वारा संचालत शहरी परिवार कल्याण केंद्र में कोविड मरीजों के लिए आक्सीजन यूनिट का संचालन किया जाता है और पूर्व की भांति संचालित होता रहेगा। साथ ही अगर आपात स्थिति बनती है तो अस्पताल को दो दिन के भीतर खाली करवाकर उसका उपयोग कोविड मरीजों के इलाज के लिए किया जाएगा।

तीन सौ तक की ओपीडी

आयुर्वेद अस्पताल में संचालित होने वाले पंचकर्म, शल्य, बाल रोग, कायचिकित्सा सहित विभिन्न विभागों की ओपीडी में सामान्य दिनों में तीन सौ से ज्यादा मरीज पहुंचकर अपना इलाज करवाते हैं। कालेज भवन में ओपीडी का संचालन होने की वजह से मरीजों की संख्या घटकर पचास तक पहुंच गई थी।

हटाया जा रहा सामान

स्वास्थ्य विभाग अस्पताल से सामान हटा रहा है। इसके बाद सेनेटाइज्ड तथा पोताई का काम पूरा करवाया जाएगा। काम पूरा होने के बाद ओपीडी का संचालन अस्पताल भवन में किया जाएगा।

Next Story