Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

रायपुर में शुभ संकेत, छह दिन में संक्रमितों की संख्या 4168 से घटकर 2363

कोरोना संक्रमण की चार हजार से ऊपर की चरम सीमा पर पहुंचने के बाद रायपुर जिले में कम हो रहे केस शुभ संकेत दे रहे हैं। विशेषज्ञ भी मान रहे हैं। जिले में छह हजार से ज्यादा लोगों की जांच के बाद भी मामलों में कमी आ रही है। रायपुर जिले में छह दिन पहले मामला 41 सौ से ज्यादा था जो अब 24 सौ से कम हो गया है।

रायपुर में शुभ संकेत, छह दिन में संक्रमितों की संख्या 4168 से घटकर 2363
X
कोरोना (प्रतीकात्मक फोटो)

कोरोना संक्रमण की चार हजार से ऊपर की चरम सीमा पर पहुंचने के बाद रायपुर जिले में कम हो रहे केस शुभ संकेत दे रहे हैं। विशेषज्ञ भी मान रहे हैं। जिले में छह हजार से ज्यादा लोगों की जांच के बाद भी मामलों में कमी आ रही है। रायपुर जिले में छह दिन पहले मामला 41 सौ से ज्यादा था जो अब 24 सौ से कम हो गया है।

रायपुर कोरोना संक्रमण काल में डेंजर जोन साबित हुआ है और अन्य जिलों की तुलना में यहां संक्रमण दर, मृत्युदर भी अधिक रही है। दूसरी लहर के दौरान यहां सालभर के सारे रिकार्ड टूट चुके हैं और थोक में मामले सामने आ चुके हैं। स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों के मुताबिक 14 अप्रैल को रायपुर जिले में कोरोना चरम स्थिति पर पहुंचा था और यहां एक ही दिन में 4168 लोगों को कोरोना संक्रमित पाया गया था।

इसके बाद कोरोना ढलते क्रम में आने लगा है और पिछले छह दिन से इससे कम मामले सामने आ रहे हैं, जबकि जांच पूरी हो रही है। इसकी वजह ज्यादा से ज्यादा लोगों की जांच और लॉकडाउन की सख्ती को माना जा रहा है। विशेषज्ञों का मानना है कि सप्ताहभर कोरोना केस कम होते चले गए तो यहां कोरोना अपनी सामान्य स्थिति में आ जाएगा।

कोरोना के बढ़ते संक्रमण के साथ यहां रोजाना कोरोना मुक्त होने वालों की संख्या भी बढ़ चुकी है और इसका सीधा असर एक्टिव केस पर पड़ेगा। वर्तमान में रायपुर जिले में कोरोना के एक्टिव केस की संख्या चौबीस हजार से ऊपर हो चुकी है।

जिला अस्पताल में 18 बेड का आईसीयू

कोरोना के गंभीर मामले को देखते हुए संक्रमितों को उपचार की अधिक सुविधा देने के लिए पंडरी जिला अस्पताल में 18 बेड का नया आईसीयू तैयार किया जा रहा है। जिला अस्पताल की कार पार्किंग के समीप भवन तैयार है, जिसमें अन्य उपकरण लगाने का काम चल रहा है जो सप्ताहभर के भीतर पूरा कर लिया जाएगा।

इसकी लागत लगभग एक करोड़ रुपए है जिसका वहन डीएमएफ फंड से किया जा रहा है। दावा किया जा रहा है कि नया आईसीयू सर्वसुविधा युक्त होगा। इसमें पांच बेड पर वेंटिलेटर होगा जिसके लिए पाइप लाइन बिछाने का काम चल रहा है। आईसीयू की शुरुआत दस आक्सीजन युक्त बेड से की जाएगी और आने वाले दिनों में वेंटिलेटर की सुविधा कोरोना के गंभीर मरीजों को मिलने लगेगी।

तारीख कोरोना केस

14 अप्रैल 4168

15 अप्रैल 3960

16 अप्रैल 3438

17 अप्रैल 3813

18 अप्रैल 3603

19 अप्रैल 2524

20 अप्रैल 2368

कम हुए मरीज

जिले में रोजाना छह हजार से ज्यादा लोगों की जांच की जा रही है। पिछले कुछ दिनों से लॉकडाउन के असर से संक्रमित मामलों में गिरावट आई है।


Next Story