Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

लुधियाना में फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रोन के खिलाफ रोष प्रदर्शन, पुतला फूंका

लुधियाना की जामा मस्जिद के बाहर शुक्रवार को मजलिस अहरार इस्लाम की ओर से फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुअल मैक्रोन के खिलाफ उनकी टिप्पणी को लेकर जमकर रोष प्रदर्शन किया गया। लोगों ने उनका पुतला फूंक गुस्से का इजहार किया।

लुधियाना में फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रोन के खिलाफ रोष प्रदर्शन, पुतला फूंका
X

लुधियाना में मुसलमानों का प्रदर्शन

लुधियाना की जामा मस्जिद के बाहर शुक्रवार को मजलिस अहरार इस्लाम की ओर से फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुअल मैक्रोन के खिलाफ उनकी टिप्पणी को लेकर जमकर रोष प्रदर्शन किया गया। लोगों ने उनका पुतला फूंक गुस्से का इजहार किया। यहां काफी संख्या मुसलमानों ने जमकर विरोध जाहिर किया। इस अवसर पर नायब शाही इमाम मौलाना मुहम्मद उस्मान लुधियानवी ने कहा की शान-ए-रसूल सल्ललाहू अलैहिवसल्लम में गुस्ताखी हरगिज सहन नहीं की जा सकती। उन्होंने कहा की बार-बार फ्रांस की ओर से ही ऐसा इसलिए होता है, क्योंकि फ्रांस यूरोपीयन देशों से इस्लाम के विरोध के नाम पर मोटे फंड बटोरता आ रहा है।

इतिहास गवाह है कि बीते एक हजार वर्षों में फ्रांस के कट्टरपंथियों ने बार-बार शान-ए-रसूल सल्ललाहू अलैहिवसल्लम में गुस्ताखी की कोशिश की है और हर बार माफी मांगी है।

इस प्रदर्शन में लोग बड़ी संख्या में रोष प्रकट करते नजर आए। काफी संख्या में लोग इस प्रदर्शन में शामिल हुए। नायब शाही इमाम ने कहा की दरअसल फ्रांस के कट्टरपंथी अपने देश में अपने ही लोगों द्वारा इस्लाम को पसंद करने की आ रही लगातार खबरों से बौखला गए हैं और वह अपना चरित्र और व्यवहार ठीक करने की बजाय इस्लाम पर आतंकवाद का इल्ज़ाम लगा कर इसे रोकना व बदनाम करना चाहते हैं।

उस्मान लुधियानवी ने कहा कि इस्लाम और हमारे आका हजऱत मुहम्मद साहिब सल्ललाहू अलैहिवसल्लम की शान में की जा रही गुस्ताखियां इस बात की जिंदा दलील है कि इस्लाम विरोधी फ्रांस पर बौखलाहट तारी है, क्योंकि बेबसी में ही लोग अपने विरोधियों को गाली देते हैं जो इनकी बुजदिली जाहिर करती हैं।

Next Story