logo
Breaking

खेल-खेल में हो सकेगा ऑटिज्म का इलाज, इस नए गेम से मिलेगी मदद

ऑटिज्म से ग्रसित बच्चों के परेशान पेरेंट्स को अब और परेशान होने की जरूरत नहीं है। वह अपने बच्चे को खेल-खेल में इस बीमारी से निजात दिला सकते हैं। जी हां, आईआईटी कानपुर ने कुछ ऐसे गेम्स तैयार किए हैं, जिन्हें खेलते हुए बच्चे ऑटिज्म की अवस्था से बाहर आ जाएंगे।

खेल-खेल में हो सकेगा ऑटिज्म का इलाज, इस नए गेम से मिलेगी मदद

ऑटिज्म से ग्रसित बच्चों के परेशान पेरेंट्स को अब और परेशान होने की जरूरत नहीं है। वह अपने बच्चे को खेल-खेल में इस बीमारी से निजात दिला सकते हैं। जी हां, आईआईटी कानपुर ने कुछ ऐसे गेम्स तैयार किए हैं, जिन्हें खेलते हुए बच्चे ऑटिज्म की अवस्था से बाहर आ जाएंगे।

ये गेम्स इस प्रकार तैयार किए हए हैं, जिन्हें खेलने से बच्चों की वर्किंग मेमोरी में सुधार होगा और वह ऑटिज्म स्टेज से बाहर आने में मदद मिलेगी।

एनबीटी की रिपोर्ट के मुताबिक बायोसाइंसेज एंड बायोइंजिनियरिंग डिपार्टमेंट के असिस्टेंट प्रो. नितिन गुप्ता ने बताया कि बच्चों को ऑटिज्म से लड़ने के लिए एक प्रकार का मोबाइल एप तैयार किया गया है।

यह भी पढ़ें: प्रेग्नेंसी में भूलकर भी न करें ये गलतियां

ये एप्स हर स्मार्टफोन पर आसानी से चलेंगे, उसके पहले जल्द ही इन एप्स का परीक्षण कानपुर के एक सेंटर में होगा और उसके बाद इसे आसानी गूगल प्लेस्टोर से डाउनलोड किया जा सकेगा।

ऑटिज्म क्या है

आपके मन ये सवाल आ रहा होगा कि आखिर ऑटिज्म क्या है, जिसके बारे में बात हो रही है। दरअसल, ऑटिज्म एक प्रकार की मानसिक बीमारी है। दूसरे शब्दों में इसे स्वलीनता भी कहा जाता है। इस बीमारी के होने पर बच्चे अपने आप में ही खोए रहते हैं। साथ ही इन्हें बाकी लोगों से मिलने-जुलने में भी शर्मिंदगी महसूस होती है और बात करने में हिचकिचाते हैं।

ऑटिज्म का असर

ऑटिज्म होने पर इसके लक्षण बचपन से ही दिखने लगते हैं। कुछ वैज्ञानिक इसे बीमारी का नाम नहीं देते हैं। लेकिन ये समस्या होने पर बच्चे के मानसिक विकास पर असर पड़ता है और सही तरह से विकास नहीं हो पाता। इससे शिकार बच्चों में उदासीनता का भाव आ जाता है। वहीं कुछ मामलों में इनमें स्पेशल क्वालिटी होती है।

यह भी पढ़ें: स्मोकिंग न करने वालों को भी हो सकता है सिगरेट पीने के कारण होने वाला लंग्स कैंसर

बच्चों को होती है ये दिक्कत

सामान्य बच्चा एक बार में कई चीजों को याद करने में सक्षम होता है। वहीं ऑटिज्म से पीड़ित बच्चा एक साथ कई चीजों को याद नहीं रख सकता। बच्चों की इस मेमोरी पावर को सुधारने के लिए रिसर्चर्स ने कुछ गेम्स तैयार किए हैं।

ऐसे काम करेगा गेम

तैयार किए गए गेम्स में बच्चों को अलग-अलग शेप और कलर्स की चीजें दिखाकर उन्हें छिपा दी जाएंगी। इन चीजों को बच्चे को ढूंढ़ने के लिए कहा जाएगा। इसकी मदद से बच्चा एक बार में कई चीजें याद रखने की कोशिश करेगा, जिससे उसकी मेमोरी पावर बढ़ेगी। इसी तरह के 5-6 गेम्स तैयार हो चुके हैं, जिनका जल्द ही परीक्षण शूरू हो जाएगा।

Share it
Top