Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

अब पुरूष भी रोक सकेंगे 1 साल तक महिलाओं में होने वाली अनचाही प्रेग्नेंसी, जानें कैसे

Relationship Tips : पति-पत्नी के रिश्ते में प्यार जताने के लिए शारीरिक संबंध सबसे अहम भूमिका निभाते हैं। लेकिन अनचाहे गर्भ यानि अनचाही प्रेग्नेंसी के डर से लोग अक्सर शारीरिक संबंध बनाने से डरते हैं। इसके साथ ही गर्भनिरोधक गोलियों के अत्याधिक सेवन से होने वाली परेशानियों से छुटकारा दिलाने के लिए एक ऐसी जानकारी लेकर आए जो आपके बहुत काम आएगी। तो चलिए जानते हैं कि कैसे अनचाही प्रेग्नेंसी को रोक सकते हैं।

अब पुरूष भी रोक सकेंगे 1 साल तक महिलाओं में होने वाली अनचाही प्रेग्नेंसी, जानें कैसे
X

Relationship Tips : पति-पत्नी के रिश्ते में प्यार जताने के लिए शारीरिक संबंध सबसे अहम भूमिका निभाते हैं। लेकिन अनचाहे गर्भ यानि अनचाही प्रेग्नेंसी के डर से लोग अक्सर शारीरिक संबंध बनाने से डरते हैं। इसके साथ ही गर्भनिरोधक गोलियों के अत्याधिक सेवन से होने वाली परेशानियों से छुटकारा दिलाने के लिए एक ऐसी जानकारी लेकर आए जो आपके बहुत काम आएगी। तो चलिए जानते हैं कि कैसे अनचाही प्रेग्नेंसी को रोक सकते हैं।

हाल ही में हुई एक शोध में अनुसंधानकर्ताओं ने ऐनोवेरा नाम का एक बेहद असरदार गर्भनिरोधक वजाइनल रिंग को विकसित किया है। जो अनचाही प्रेग्नेंसी को रोकने में बेहद कारगर साबित हो सकती है। इस रिंग के इस्तेमाल से लगभग 1 साल तक अनचाही प्रेग्नेंसी से बचा जा सकता है।

ऐनोवेरा गर्भनिरोधक रिंग का इस्तेमाल करने का तरीका

इस रिंग को गर्भनिरोधक रिंग भी कहा जाता है। इस रिंग को तरह 21 दिनों तक वजाइना में रखा जाता है और हर महीने पीरियड्स के शुरू होने पर अगले 7 दिनों तक निकाल दिया जाता है। ये स्पेशल रिंग आपको पीरियड्स के 13 दिनों यानि लगभग 1 साल तक अनचाही प्रेग्नेंसी से सुरक्षा से देता है। इस रिंग के डिजाइन किया गया है कि इसमें से गर्भनिरोधक के लिए इस्तेमाल की जाने वाली दवा सेजेस्टेरॉन एसिटेट की 150 एमसीजी और प्रेग्नेंसी रोकने में इस्तेमाल होने वाली दवा एथिनाइल एस्ट्राडिओल की 13 एमसीजी रिलीज होती है।

ऐनोवेरा गर्भनिरोधक रिंग का असर

ऐनोवेरा गर्भनिरोधक रिंग का प्रदर्शन बेहद हैरान करने वाला रहा है। इस रिंग का इस्तेमाल करने वाली 100 महिलाओं में से सिर्फ 3 महिलाओं कोअनचाही प्रेग्नेंसी का सामना करना पड़ा। इसमें सेजेस्टेरॉन एसिटेट एक नया प्रोजेस्टिन है जो खासतौर पर प्रोजेस्टेरॉन रिसेप्टर्स को बांधकर रखता है। दूसरे कॉम्बिनेशन वाले हॉर्मोन बर्थ कंट्रोल प्रॉडक्ट्स की तुलना में यह रिंग सेक्स हॉर्मोन को बांधकर नहीं रखता और ना ही इसकी कोई एस्ट्रोजेनिक या एन्ड्रोजेनिक ऐक्टिविटी है।

आपको बता दें कि इससे पहले हुए शोध में क्लिनिकल ट्रायल के डेटा की जांच कर अनुसंधानकर्ताओं ने इस बात की खोज की कि आखिर कितने समय तक सेजेस्टेरॉन किसी महिला के खून में रहता है और इसका लेवल क्या होता है। जिसमें सेजेस्टेरॉन एसिटेट सीरम शुरुआती ट्रायल में ऑव्यूलेशन को रोकने में सफल रहा। इस तरह से ये बाजार में उपलब्ध गर्भनिरोधक तरीकों में सबसे असरदार और कामयाब तरीका है।

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story